Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

मैं तो महज एक माँ हूँ

मैं तो महज एक माँ हूँ
कहीं छाँव सी
कहीं नाँव सी
मैं तो महज एक माँ हूँ
सुंदर या बदसूरत हूँ
मैं ममता की मूरत हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
हूँ जगत का सार मैं
स्नेह भरा आधार मैं
मैं तो महज एक माँ हूँ
कद्र कम होने लगी
मैं दुबक रोने लगी
मैं तो महज एक माँ हूँ
दौलत ना छाव की
V9द भूखी हूँ भाव की
मैं तो महज एक माँ हूँ

3 Likes · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
समर कैम्प (बाल कविता )
समर कैम्प (बाल कविता )
Ravi Prakash
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
2407.पूर्णिका
2407.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
Adhere kone ko roshan karke
Adhere kone ko roshan karke
Sakshi Tripathi
किसी को उदास देखकर
किसी को उदास देखकर
Shekhar Chandra Mitra
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कितने बेबस
कितने बेबस
Dr fauzia Naseem shad
वो एक विभा..
वो एक विभा..
Parvat Singh Rajput
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
💐प्रेम कौतुक-255💐
💐प्रेम कौतुक-255💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
मन
मन
Neelam Sharma
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
Ranjeet kumar patre
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
Loading...