Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2020 · 1 min read

मैं तुम्हें ढूंढ़ आऊंगी

मैं तुम्हें ढूंढ़ आऊंगी
फूल – पत्तियों में
चांद – सितारों में
सतरंगी इन्द्रधनुषी किनारे में
न … तुम कहीं न मिलना
क्यूं कि तुम सदैव
मेरे ही मन के कोने में
आस की तरह खिलना
~ पुर्दिल सिद्धार्थ

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
Atul "Krishn"
دل کا
دل کا
Dr fauzia Naseem shad
Inspiring Poem
Inspiring Poem
Saraswati Bajpai
🙅सावधान🙅
🙅सावधान🙅
*प्रणय प्रभात*
अफसोस
अफसोस
Dr. Kishan tandon kranti
गैरों से जायदा इंसान ,
गैरों से जायदा इंसान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
Dr Archana Gupta
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
हमे निज राह पे नित भोर ही चलना होगा।
हमे निज राह पे नित भोर ही चलना होगा।
Anamika Tiwari 'annpurna '
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
शबाब देखिये महफ़िल में भी अफताब लगते ।
शबाब देखिये महफ़िल में भी अफताब लगते ।
Phool gufran
*मुट्ठियाँ बाँधे जो आया,और खाली जाएगा (हिंदी गजल)* ____________
*मुट्ठियाँ बाँधे जो आया,और खाली जाएगा (हिंदी गजल)* ____________
Ravi Prakash
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
DrLakshman Jha Parimal
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
गालगागा गालगागा गालगागा
गालगागा गालगागा गालगागा
Neelam Sharma
जो कभी सबके बीच नहीं रहे वो समाज की बात कर रहे हैं।
जो कभी सबके बीच नहीं रहे वो समाज की बात कर रहे हैं।
राज वीर शर्मा
तुम नफरत करो
तुम नफरत करो
Harminder Kaur
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
3238.*पूर्णिका*
3238.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
Loading...