Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

” मैं तन्हा हूँ “

मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..
लिख देती हूँ खुशियां सारी अपनी
तुम्हारे नाम….जाकर अपना घर भर लो….
मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..
!
!
निभा न पाओगे साथ जनम का साथ तुम
कोई ओर साथी तुम्हारे जैसा तुम ढूंढ लो……
दे देती हूँ दिल की सारी जमीन मैं तुम्हें
तुम आशियाना कोई नया बना लो…….
मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..
!
!
हसरत नही तुम्हें पाने की ना ही कोई अरमान है
स्वतंत्र हो तुम मौहब्बत में मेरी, उड़ान नयी भर लो……
दूरियाँ, दरमियां ठीक है बीच में तुम्हारे हमारे,
किसी ओर को अब तुम अपने करीब कर लो…..
मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..
!
!
क्या जरूरत है एक ही दिल में हजारों को रखने की
हजारों के दिल में एक ही को ईमानदारी से रख लो……
है बडी खूबसूरत सच्चे इश्क की डगर
वफ़ा का स्वाद भी तुम कभी चख लो……
मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..
!
!
मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..
लिख देती हूँ खुशियां सारी अपनी
तुम्हारे नाम….जाकर अपना घर भर लो….
मैं तन्हा हूँ तुम मुझे तन्हा ही रहने दो…..

लेखिका_. आरती सिरसाट
बुरहानपुर मध्यप्रदेश
स्वरचित एवं मौलिक रचना।

Language: Hindi
1 Like · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
शारदीय नवरात्र
शारदीय नवरात्र
Neeraj Agarwal
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
Dr Archana Gupta
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"वक्त के गर्त से"
Dr. Kishan tandon kranti
एक एक ख्वाहिशें आँख से
एक एक ख्वाहिशें आँख से
Namrata Sona
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
विवेक
विवेक
Sidhartha Mishra
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
कान्हा घनाक्षरी
कान्हा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
यूं आसमान हो हर कदम पे इक नया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
स्वार्थवश या आपदा में
स्वार्थवश या आपदा में
*प्रणय प्रभात*
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
बहुजनों के हित का प्रतिपक्ष रचता सवर्ण सौंदर्यशास्त्र :
बहुजनों के हित का प्रतिपक्ष रचता सवर्ण सौंदर्यशास्त्र :
Dr MusafiR BaithA
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
तुम्ही ने दर्द दिया है,तुम्ही दवा देना
Ram Krishan Rastogi
जो भी मिलता है उससे हम
जो भी मिलता है उससे हम
Shweta Soni
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...