Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

मैं चलता रहा हूँ…..

?
मैं चलता रहा हूँ
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
मैं चलता रहा हूँ मैं चलता रहूँगा
सत न्याय को धर्म कहता रहूँगा ।
अमन हो ना जबतक तड़पता रहूँगा
समर के तपिश को मैं सहता रहूँगा ।।

खुशहाल हो जाय जबतक ना जीवन
मैं तबतक निरंतर मचलता रहूँगा ।
अरुण जिंदगी ये तपस्या बड़ी है
कहो सामरिक सा मैं बढ़ता रहूँगा ।।
मैं चलता रहा हूँ मैं चलता रहूँगा……..

है मस्तक मनुज का अँधेरे में अबतक
मैं सत्पथ सफ़र का दिखता रहूँगा ।
ये दीपक जला है जला ही रहेगा
मैं हर पल नजर में सुलगता रहूँगा ।।
मैं जलता रहा हूँ मैं जलता रहूँगा…….

जगत ने सहर को तो देखा नहीं था
मैं दर्पण लिए सब दिखता रहूँगा ।
मैं गीतों की सरिता बहाता रहूँगा
मैं सबको समंदर ही कहता रहूँगा ।।
मैं गाता रहा हूँ मैं गाता रहूँगा………

अरे सरफिरों फिर से फेरो दिशा को
सभी सामरिक को तू जीना सीखा दो ।
सुनो तुम ना जाना कभी भी तिमिर में
मैं हर जिंदगी को सजाता रहूँगा ।।
सजाता रहा हूँ सजाता रहूँगा……….


-(सामरिक अरुण NDS)
जिला प्रभारी देवघर
31मई 2016
www.nyayadharmsabha.org

Language: Hindi
Tag: गीत
261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
Ravi Prakash
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
वक्त से गुज़ारिश
वक्त से गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हैप्पी होली
हैप्पी होली
Satish Srijan
मुझे     उम्मीद      है ए मेरे    दोस्त.   तुम.  कुछ कर जाओग
मुझे उम्मीद है ए मेरे दोस्त. तुम. कुछ कर जाओग
Anand.sharma
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
2344.पूर्णिका
2344.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दीपावली
दीपावली
Neeraj Agarwal
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
तेरे हुस्न के होगें लाखों दिवानें , हम तो तेरे दिवानों के का
Sonu sugandh
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
'अशांत' शेखर
भाईदूज
भाईदूज
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
VINOD CHAUHAN
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-385💐
💐प्रेम कौतुक-385💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
Loading...