Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2023 · 1 min read

मैं घाट तू धारा…

मैं बनारस का घाट तू गंगा की धारा
तेरा स्पर्श पावनी मैं पावन हुआ सारा
प्रीत अर्घ्य हर लहर दे दे हुआ पत्थर
तू बह निकली देखा न मुड़ के दोबारा

वो बूँदों की पायल किरणों के कंगन
वो मेरे उर आँगन छम छम छम नर्तन
वो इठलाना वो शर्माना वो बलखाना
कैसे भूलूँ मैं वो मदमाता आलिंगन

बुत बना बैठा रहा कैसे तुझको पाऊँ
जो तू तराश दे तेरे काबिल बन जाऊँ
कभी तो ठहर बैठ पार मन के कछार
मन मंदिर में गूंजती नेह घंटियाँ सुनाऊँ

बैठा रहा लिए हथेली कुमकुम हल्दी
ठुकरा कर प्रीत मेरी तू आगे चल दी
गुहार लगाई दी दुहाई हुई न सुनवाई
सागर से मिलने की बड़ी थी जल्दी

रेखांकन।रेखा
१९.८.२३

Language: Hindi
1 Like · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इन काली रातों से इक गहरा ताल्लुक है मेरा,
इन काली रातों से इक गहरा ताल्लुक है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी एक सहेली है
मेरी एक सहेली है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
👍👍
👍👍
*प्रणय प्रभात*
"बेरोजगार या दलालों का व्यापार"
Mukta Rashmi
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
Neelam Sharma
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
3108.*पूर्णिका*
3108.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Today's Reality: Is it true?
Today's Reality: Is it true?
पूर्वार्थ
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"याद है मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
"आपके पास यदि धार्मिक अंधविश्वास के विरुद्ध रचनाएँ या विचार
Dr MusafiR BaithA
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
पूरा ना कर पाओ कोई ऐसा दावा मत करना,
Shweta Soni
Loading...