Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे

लोग कहते हैं लो वो पागल वो दिवाना आया
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
लोग कहते हैं…………..
तेरी दिवानगी में कुछ ऐसी ही हालत है मेरी
दिल में अरमान है तेरा बस मोहब्बत है तेरी
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
लोग कहते हैं…………..
तूँ समझे या ना समझे ये तो बस तूँ ही जाने
दिल की धड़कन में है बस तूँ मेरा खुदा जाने
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
लोग कहते हैं…………..
‘विनोद’ हमको बतला दो भला ये दूरी कैसी
मोहब्बत दिल में थी तो अब ये मजबूरी कैसी
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
लोग कहते हैं……………
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको…………………….

3 Likes · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
▫️ मेरी मोहब्बत ▫️
Nanki Patre
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
Surinder blackpen
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
यह आज है वह कल था
यह आज है वह कल था
gurudeenverma198
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
जलियांवाला बाग काण्ड शहीदों को श्रद्धांजलि
Mohan Pandey
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
दो रुपए की चीज के लेते हैं हम बीस
महेश चन्द्र त्रिपाठी
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नारी- स्वरूप
नारी- स्वरूप
Buddha Prakash
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
Shweta Soni
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3100.*पूर्णिका*
3100.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माये नि माये
माये नि माये
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिलरुबा जे रहे
दिलरुबा जे रहे
Shekhar Chandra Mitra
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
#एक_स्तुति
#एक_स्तुति
*Author प्रणय प्रभात*
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
"अवसाद का रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...