Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2017 · 1 min read

मैं क्यू लिखा करती हूँ

यादों के गुलदस्ते से निकल कर
जब खुद से रूबरू होती हूँ
अक्सर सोचा करती हूँ
मैं क्यू लिखती हूँ
हाँ मैं क्यू लिखती हूँ
अक्सर तौबा तौबा करती हूँ
फिर यादो की पोटली लिए
लिखने बैठती हूँ।
सिलसिला इश्क का
रंगे हयात में मिला
लिखा करती हूँ।
तर्जें तग़ाफ़ुल है ये
शिकवा करने है या
हुस्ने इनायत है ।
बिन सोचे
बस लिखा करती हूँ
और
आँसू भरी आँखों में
मुस्कान लिए सोचा करती हूँ
हाँ, मैं लिखा करती हूँ
पर मैं क्यू लिखा करती हूँ
#रश्मि

तर्जें तग़ाफ़ुल(जानकार अंजान बनाने की अदा)

Language: Hindi
1 Like · 366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
"वक्त की औकात"
Ekta chitrangini
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
होली (होली गीत)
होली (होली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💐प्रेम कौतुक-358💐
💐प्रेम कौतुक-358💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
कवि दीपक बवेजा
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
3011.*पूर्णिका*
3011.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खूब उड़ रही तितलियां
खूब उड़ रही तितलियां
surenderpal vaidya
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बच्चों के मन भाता तोता (बाल कविता)
बच्चों के मन भाता तोता (बाल कविता)
Ravi Prakash
इसे कहते हैं
इसे कहते हैं
*Author प्रणय प्रभात*
ईर्ष्या
ईर्ष्या
नूरफातिमा खातून नूरी
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
Neelam Sharma
"कुछ रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
Sakshi Tripathi
Loading...