Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

मैं एक तितली सी होती।

???????
जिन्दगी भले ही छोटी होती।
पर मैं एक तितली सी होती।

प्रकृति सौन्दर्य सहेजे संग में।
सोभा बड़ी निराली होती।

पंख सुनहरे सजते मेरे।
मैं फूलों की रानी होती।

रंग – बिरंगी पंखों वाली।
दुनिया मेरी रंगीली होती।

मस्त हवा में उड़ती फिड़ती।
नहीं फिकर दुनिया की होती।

कभी बलखाती,कभी इतराती।
मेरी हर अदा अनोखी होती।

बाग – बाग मैं धूमा करती।
चंचल नयन मटकाती होती।

बच्चे – बड़े सभी को भाती।
सबके मन को हर्षाती होती।

रात ढले पंखुड़ियों में सोती।
अपने धुन में मस्त दिवानी होती।

प्रथम किरण पड़ते उड़ जाती।
करती मन की मनमानी होती।

फूलों की रस को मैं पीती।
उसकी खुशबू से नहलाई होती।

कली – कली पर बैठा करती।
मधुर संगीत सुनाती होती।

अपने कोमल पंखों से।
दुनिया पर रंग बरसाती होती।

गुपचुप बाते सब कह जाती।
मन की मेरी मन में ना होती।
???????—लक्ष्मी सिंह

551 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
वो ज़माने चले गए
वो ज़माने चले गए
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
💐अज्ञात के प्रति-56💐
💐अज्ञात के प्रति-56💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
यही रात अंतिम यही रात भारी।
यही रात अंतिम यही रात भारी।
Kumar Kalhans
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ Rãthí
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घंटा हिलाने वाली कौमें
घंटा हिलाने वाली कौमें
Shekhar Chandra Mitra
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
Shweta Soni
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
How to keep a relationship:
How to keep a relationship:
पूर्वार्थ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
वो सबके साथ आ रही थी
वो सबके साथ आ रही थी
Keshav kishor Kumar
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बनावटी दुनिया मोबाईल की
बनावटी दुनिया मोबाईल की"
Dr Meenu Poonia
Loading...