Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

“मैं एक कलमकार हूँ”

“मैं एक कलमकार हूँ”
मैं एक कलमकार हूँ
कलम का धर्म निभाऊंगा,
चाहे समझे कोई कुछ
पर इंकलाबी-गान सुनाऊंगा,
कलम की पतवार से
हर कश्ती पार लगाऊंगा,
माँ भारती की सेवा में
सब कुछ अर्पण कर जाऊंगा।

5 Likes · 4 Comments · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
सत्य तत्व है जीवन का खोज
सत्य तत्व है जीवन का खोज
Buddha Prakash
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अमर शहीद भगत सुखदेव राजगुरू
अमर शहीद भगत सुखदेव राजगुरू
Satish Srijan
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
पूर्वार्थ
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
surenderpal vaidya
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
gurudeenverma198
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
Vishal babu (vishu)
2441.पूर्णिका
2441.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
हिम बसंत. . . .
हिम बसंत. . . .
sushil sarna
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
शायद ऐसा भ्रम हो
शायद ऐसा भ्रम हो
Rohit yadav
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
Manisha Manjari
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Mukkadar bhi kya chij h,
Mukkadar bhi kya chij h,
Sakshi Tripathi
Never trust people who tells others secret
Never trust people who tells others secret
Md Ziaulla
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
Loading...