Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मैं उड़ता रहूँगा, उठता रहूँगा

इतिहास के पन्नों में लिख दो
या अपने झूठे सच्चे शब्दों से
मेरे चेहरे पर कीचड़ मल दो
मैं उड़ता रहूँगा, उठता रहूँगा
उस धूल, उस धुंए की तरह

क्यों मेरी चमक से नाराज़ हो
क्या मेरी तरक्की से उदास हो
मैं यूँ ही बढ़ता रहूँगा
जैसे कि ये जहां मेरा घर हो

सूरज और चाँद की तरह
समंदर की लहरों की तरह
उम्मीद की किरण की तरह
मैं बढ़ता घटता रहूँगा

बिखरा हुआ देखना चाहते हो मुझे
या सर और नज़रें झुकाये हुए
आँखों से आंसूं बहते हुए
या कमज़ोरी से कहराते हुए

क्या मेरी हंसी से नासाज़ हो
या मेरी खुशियों से नाराज़ हो
मैं यूँ ही हँसता रहूँगा
जैसे कि मैं सबसे खुश हूँ

अपने शब्दों से मुझे घायल करो
अपनी नज़रों से मुझे छलनी करो
अपनी नफरत से मेरी जान लो
मैं उड़ता रहूँगा, उठता रहूँगा
ठण्डी सुहानी हवा की तरह

शर्म परे रखकर, निखरता रहूँगा
दर्द किनारे कर, हँसता रहूँगा
डर की रातों से दूर होकर
भोर के उजाले की ओर बढ़ता रहूँगा
उम्मीदों का दामन थामे, सपने साथ लिए
मैं नयी मंज़िलों की तरफ चलता रहूँगा

मैं उड़ता रहूँगा, उठता रहूँगा

–प्रतीक

132 Views
You may also like:
सूर्यज्वाळा
"अशांत" शेखर
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
जो देखें उसमें
Dr.sima
✍️दरिया और समंदर✍️
"अशांत" शेखर
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख ********
Ravi Prakash
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ढह गया …
Rekha Drolia
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...