Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2023 · 1 min read

मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह

मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कहाँ भाता
इश्क और उसकी शर्तो पर त्याग मेरा था तो उसे मेरे प्रेम का अंदाज कहाँ समझ आता
मैं तो खुल कर प्यार करने लगा था,
पर उसे कह ही नहीं पाया तेरे बेगैर यह सफल कहाँ हो पाता

457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
सौ बरस की जिंदगी.....
सौ बरस की जिंदगी.....
Harminder Kaur
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
उसका अपना कोई
उसका अपना कोई
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
ओ दूर के मुसाफ़िर....
ओ दूर के मुसाफ़िर....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
अंसार एटवी
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
कोई नयनों का शिकार उसके
कोई नयनों का शिकार उसके
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
Naushaba Suriya
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
Loading...