Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2021 · 1 min read

मैं इंसान हूं !

मैं इंसान हूं,
खुदा की पहचान हूं,
फरिश्तों का अरमान हूं।
मैं इंसान हूं।

मैं जो चाहूं कर सकता हूं,
हर संकट को हर सकता हूं।
अपनी पर जो आ जाऊं मैं,
दरिया का रुख बदल सकता हूं

मैंने समुद्र पर बांध बांधा था,
पहाड़ों कंदराओं को लांघा था।
जो उत्पाद बढ़ा हथधर्मियों का,
रण में मैंने सबको संहारा था।

मैं भगीरथ का वंशज हूं,
गंगा धरा पर जो लाए थे।
मैं भरत का उत्तराधिकारी,
धर्म की ध्वजा जो लहराए थे।

मेरे पुरखों ने सदा,
वीरता का अध्याय लिखा,
हर मुश्किल को हंस कर पार किया,
वचन के लिए जीवन तक वार दिया।

मैं अंधियारे में चिराग बन जलता हूं,
मोम बन मुल्क की खातिर गलता हूं।
मुझपर विधाता को भी अभिमान है,
मुझसे ही धरा पर उसका सम्मान है।

मैं सृष्टि में जीवन का मान हूं,
खुदा का प्रतीक औ परिधान हूं।
मैं वसुधा की उत्तम संतान हूं,
मैं इंसान हूं।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
जाये तो जाये कहाँ, अपना यह वतन छोड़कर
gurudeenverma198
बहुत बरस गुज़रने के बाद
बहुत बरस गुज़रने के बाद
शिव प्रताप लोधी
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
*प्रणय प्रभात*
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
Never forget
Never forget
Dhriti Mishra
भाग्य
भाग्य
Sarla Sarla Singh "Snigdha "
पीछे मुड़कर
पीछे मुड़कर
Davina Amar Thakral
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समझा दिया है वक़्त ने
समझा दिया है वक़्त ने
Dr fauzia Naseem shad
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
घाघरा खतरे के निशान से ऊपर
Ram Krishan Rastogi
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
"सैल्यूट"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
Adha Deshwal
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शेखर सिंह
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
23/52.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/52.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अब हिंद में फहराएगा, हर घर तिरंगा (हिंदी गजल)*
*अब हिंद में फहराएगा, हर घर तिरंगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
ग्वालियर, ग्वालियर, तू कला का शहर,तेरी भव्यता का कोई सानी नह
पूर्वार्थ
Loading...