Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा

भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
और भ्रष्ट पूँजीपतियों द्वारा गरीबों पर,
किये गए शोषण से संग्राम का,
मैं तांडव मचाने आया हूँ ।
खाली हाथ नहीं आया मैं,
साथ कफन भी लाया हूँ ।।

पवन तो आकर थम चुका,
अब सुनामी आने वाला है ।
सब्र का बाँध अब टुट चुका,
जनसैलाब उमड़ने वाला है ।।

दिल दहलाने वाला मंजर,
मैं खड़ा यहाँ पर कर दूँगा ।
समय की सीमा समाप्त हुई,
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा ।।

वक्त यहाँ अब बचा नहीं,
किसी के साथ संवादों का ।
यहाँ आर पार की लड़ाई होनी है,
गरीबी अमीरी के विवादों का ।।

मेरा शब्द-वाण सब विफल रहा,
यहाँ इन दुष्टों को समझाने का ।
यह समय है अब त्रिशूल उठाकर,
उनकी छाती पर चढ़ जाने का ।।

इस लड़ाई में ये प्रण है मेरा,
या तो मैं मर जाऊँगा ।
चाहे इस देश से हमेशा के लिए,
गुलामी मिटा के जाऊँगा ।।

इस लड़ाई से बचना तो अब,
इंसानियत के दुश्मनों को है ।
तुम इस लड़ाई से भागकर यदि,
जो खुद को भ्रष्ट बना लोगे,
तो आने वाली पीढ़ियों को तुम,
क्या जवाब दे पाओगे ।।

तेरा जमीर तुझे धिक्कारेगा,
जो कभी सहनीय नहीं होगा ।
नजर मिलाकर बात किसी से,
तुम कभी न कर पाओगे ।।

जिल्लत भरी जिंदगी में,
तुम पूरी उम्र गुजारोगे ।
इससे तो अच्छा रहेगा,
इस शोषण से आजादी के संग्राम में तुम भी,
मेरा साथ देकर दो चार को मारकर,
खुद हँसकर बलि चढ़ जाओगे ।।

कवि – मनमोहन कृष्ण
तारीख – 15/07/2023
समय – 11 : 56 ( रात्रि )

Language: Hindi
361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तारीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं लिखता हूँ
मैं लिखता हूँ
DrLakshman Jha Parimal
"रातरानी"
Ekta chitrangini
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*Author प्रणय प्रभात*
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
2855.*पूर्णिका*
2855.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
गाँधीजी (बाल कविता)
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
3-फ़क़त है सियासत हक़ीक़त नहीं है
Ajay Kumar Vimal
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
अजदहा बनके आया मोबाइल
अजदहा बनके आया मोबाइल
Anis Shah
एक व्यथा
एक व्यथा
Shweta Soni
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
Subhash Singhai
अधिकार जताना
अधिकार जताना
Dr fauzia Naseem shad
सुख - एक अहसास ....
सुख - एक अहसास ....
sushil sarna
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
निर्मोही हो तुम
निर्मोही हो तुम
A🇨🇭maanush
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
Loading...