Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 1 min read

मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ

मैं अपना घर छोड़कर शहर आया हूँ,
ताजी हवा छोड़कर पैसा कमाने आया हूँ,
भीड़, बगैरत, दिखावा, प्रदूषण से घिर गया हूँ,
मैं अपनी सादगी गाँव छोड़कर आया हूँ.।

हर शख्श अनजान है यहाँ पर,
नादान भी शातिर है यहाँ पर,
यक़ीन करना खतरनाक है,
क्योंकि हर चेहरे पर नकाब है यहाँ पर.।

मशीन जैसा भाव है यहाँ पर,
प्रयोग करो और फैंकों का हाल है यहाँ पर,
इंसानियत तो केवल शोरूम तक सीमित है,
हैवानियत का गोदाम हर घर में है यहाँ पर.।

हर फूल प्रदूषण से बेरंग है,
हर पत्ता मिट्टी धूल से तंग है,
परेशान है हर कोई यहाँ पर,
मगर हर चेहरे पर दम्भ है यहाँ पर.।

मैं अपना प्रारब्ध पूरा करने शहर आया हूँ,
कुछ बुरे किए का फल भोगने शहर आया हूँ,
अब किसी आँचल में शांति मिलती नहीं मुझे,
क्योंकि मैं अपनी माँ गाँव छोड़कर आया हूँ..।।

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
Ranjeet kumar patre
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
हिन्दु नववर्ष
हिन्दु नववर्ष
भरत कुमार सोलंकी
*रामलला त्रेता में जन्में, पूर्ण ब्रह्म अवतार हैं (हिंदी गजल
*रामलला त्रेता में जन्में, पूर्ण ब्रह्म अवतार हैं (हिंदी गजल
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विश्व पुस्तक मेला
विश्व पुस्तक मेला
Dr. Kishan tandon kranti
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कोई नयनों का शिकार उसके
कोई नयनों का शिकार उसके
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🙅सनातन संस्कृति🙅
🙅सनातन संस्कृति🙅
*प्रणय प्रभात*
दुनियादारी....
दुनियादारी....
Abhijeet
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
DrLakshman Jha Parimal
2574.पूर्णिका
2574.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
"बचपन"
Tanveer Chouhan
मुझे चाहिए एक दिल
मुझे चाहिए एक दिल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
Loading...