Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

मैंने बार बार सोचा

मैने बार बार सोचा
मैने बार बार सोचा
मैने बार-बार चाहा

मैने बार-बार सोचा
मैने बार-बार सोचा
मैने बार-बार चाहा

कि भूल जाऊ उसे
मगर
इसके लिए
मुझे खुद को भुलाना होगा

और
उसके लिए
खुद को सदा की नीद मे
सुलाना होगा

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
"राजनीति" विज्ञान नहीं, सिर्फ़ एक कला।।
*Author प्रणय प्रभात*
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
जज्बात
जज्बात
अखिलेश 'अखिल'
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
1
1
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा
दोहा
sushil sarna
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
Kr. Praval Pratap Singh Rana
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
Mere papa
Mere papa
Aisha Mohan
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
जानो धन चंचल महा, सही चंचला नाम(कुंडलिया)
जानो धन चंचल महा, सही चंचला नाम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
4. गुलिस्तान
4. गुलिस्तान
Rajeev Dutta
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
ये दुनिया बाजार है
ये दुनिया बाजार है
नेताम आर सी
Loading...