Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-86💐

मैंने उनके नाम की बंसी बजाई,
उन्होंने मेरे नाम का राग छेड़ा।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
श्रीराम पे बलिहारी
श्रीराम पे बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
Taj Mohammad
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज का
Dr fauzia Naseem shad
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
चमत्कार को नमस्कार
चमत्कार को नमस्कार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच का सूरज
सच का सूरज
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी क्या है?
जिंदगी क्या है?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
■ संपर्क-सूत्रम
■ संपर्क-सूत्रम
*Author प्रणय प्रभात*
मीठी-मीठी माँ / (नवगीत)
मीठी-मीठी माँ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज नहीं तो निश्चय कल
आज नहीं तो निश्चय कल
Satish Srijan
दामन
दामन
Dr. Rajiv
यकीं मुझको नहीं
यकीं मुझको नहीं
Ranjana Verma
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
वो ही प्रगति करता है
वो ही प्रगति करता है
gurudeenverma198
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
बुद्ध तुम मेरे हृदय में
बुद्ध तुम मेरे हृदय में
Buddha Prakash
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
रक्तिम- इतिहास
रक्तिम- इतिहास
शायर देव मेहरानियां
*हमारे बीच फिर बातें, न जाने कल को होंं न हों (हिंदी गजल/ गी
*हमारे बीच फिर बातें, न जाने कल को होंं न हों (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
रास्ते फूँक -फूँककर चलता  है
रास्ते फूँक -फूँककर चलता है
Anil Mishra Prahari
खूबसूरत चेहरे
खूबसूरत चेहरे
Prem Farrukhabadi
💐अज्ञात के प्रति-73💐
💐अज्ञात के प्रति-73💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छोड़ दे गम, छोड़ जाने का
छोड़ दे गम, छोड़ जाने का
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...