Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 1 min read

मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है

मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
किसी के ख्वाबों को आंखों में मरते देखा है।।
जिस तरह फूल खिलते हैं अपनी कलियों से
उस मासूम बेटी का आज घर उजड़ते देखें हैं ।।
मां ने पाला था जिसे फूल बनाकर आंगन का
उस बेटी को बाप के घर दूर निकलते देखा है ।।
अब तो खुश फेमिया होगी की बो तुझे प्यार करे
चिराग़ जल के घरों का उजड़ते देखा है ।।
दफन हो गये सारे वजूद उसके घर में तेरे
मैंने उस मां को तेरे घर पे नाक रगड़ते देखा है ।।

Phool gufran

172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Dr.Rashmi Mishra
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
लावनी
लावनी
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
ज़िंदगी बेजवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
Vishal babu (vishu)
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
इश्क़ में सरेराह चलो,
इश्क़ में सरेराह चलो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
Ravi Prakash
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ख्याल
ख्याल
अखिलेश 'अखिल'
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Rajni kapoor
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2905.*पूर्णिका*
2905.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*
*"जहां भी देखूं नजर आते हो तुम"*
Shashi kala vyas
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...