Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मेहनत

मेहनत

सोचते रहने से
सोते रहने से
बैठे रहने से
गाल बजाने से
कुछ हासिल नहीं होता है।
जग हँसाई होती है।
समय बीत जाता है।
बाद में पछताना पड़ता है।
मेहनत करने से ही
कार्य सम्पन्न होता है।
लक्ष्मी घर आती है।
समाज में इज्जत मिलती है।
मानो मेरा कहना सभी
रोना-धोना छोड़ो अभी
करो तुम कुछ ऐसा काम
जग में हो जिससे नाम।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
#जीवन एक संघर्ष।
#जीवन एक संघर्ष।
*Author प्रणय प्रभात*
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
surenderpal vaidya
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
'मेरे बिना'
'मेरे बिना'
नेहा आज़ाद
HAPPY CHILDREN'S DAY!!
HAPPY CHILDREN'S DAY!!
Srishty Bansal
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ Rãthí
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
Kailash singh
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...