Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2022 · 3 min read

*कोसी नदी के तट पर गंगा स्नान मेला 8 नवंबर 2022*

कोसी नदी के तट पर गंगा स्नान मेला 8 नवंबर 2022
____________________________
कोसी नदी के तट से जब मेला घूम कर घर आए तो दोपहर के बारह बजे थे। मन प्रसन्न था । न जाने कितने वर्ष बाद नदी के तट पर जाकर फूल चढ़ाने तथा गंगा-मैया को प्रणाम करने का अवसर मिला । वरना तो नदी इतनी दूर रहती है कि जाना कठिन हो जाता है ।
इस बार रास्ता साफ-सुथरा और पक्का था । रामलीला मैदान से होते हुए जब आगे बढ़े तो पक्की सड़क पर आगे बढ़ते ही चले गए । अनुमान लगने लगा था कि नदी ज्यादा दूर नहीं है । आगे चलकर कच्ची मिट्टी का रास्ता था । जमीन थोड़ी दलदली थी । चलते समय ऐसा लग रहा था मानो गुदगुदे गद्दों पर पैर रखकर हम आगे बढ़ रहे हैं । उसी रास्ते पर भीड़ चलती जा रही थी। हमारी ई-रिक्शा जहॉं तक गई, हमने उसका प्रयोग किया। रामलीला मैदान पर भी मेला था लेकिन हमारा गंतव्य नदी का तट था ।
नदी के तट पर पहुॅंचकर बहती हुई नदी देखकर ऐसा लगा जैसे हमने मनवांछित वस्तु प्राप्त कर ली हो। झटपट एक दुकान से गेंदें के कुछ फूल एक दोने में खरीदे और उन्हें गंगा-मैया को समर्पित कर दिया । नदी में यद्यपि काफी लोग नहा रहे थे, किंतु हमारा तो ऐसा कोई इरादा ही नहाने का नहीं था । खैर, नदी का तट सदैव से दर्शनीय माना गया है । इस बार भी बहती हुई नदी का आकर्षण अलग ही था।
नदी के तट पर कुछ शिविर सरकारी थे, जिनमें अधिकारीगण विराजमान थे । यह शिविर साफ-सफाई की दृष्टि से अपनी छटा अलग बिखेर रहे थे, जबकि कुछ परंपरागत तरीके के शिविर भी थे । इनमें जनता की भीड़ थी। भोजन आदि का प्रबंध था । भजन-कीर्तन भी चल रहे थे ।
मेले में बेसन के सेव आदि की बिक्री बड़े पैमाने पर चल रही थी । कई तरह के बेसन के सेव सजाकर दुकानदारों ने रख लिए थे । जलेबी और पकोड़ी की दुकानों की भरमार थी । गन्ने का रस कितने ठेले पर बिक रहा था, इसकी गिनती लगभग असंभव थी । कुछ लकड़ी के सामान बेचे जा रहे थे । हलवा-परॉंठा भी दो-तीन दुकानों पर बिक रहा था।
बच्चों के मनोरंजन के कई साधन उपलब्ध थे। हम दोनों पति-पत्नी के साथ हमारा चार वर्ष का पोता रेयांश भी आया था । उसने ट्रेन में बैठकर एक चक्कर लगाया । उसके बाद एक आइटम कार का था । उसका भी चक्कर लगाया। एक उछलने वाला आइटम था। उस पर भी दो-चार मिनट का आनंद रेयांश ने लिया । एक फिरकी रेयांश को पसंद आई । वह लौटते समय रिक्शा में उसके हाथ में थी । जब हवा चली और फिरकी घूमने लगी, तो रेयांश को बहुत मजा आया । उसकी समझ में फिरकी के घूमने का रहस्य तुरंत आ गया । कहने लगा -“यह फिरकी हवा चलने से चल रही है।”
जब हम दोपहर बारह बजे लौटे, तब आने वालों की भीड़ थोड़ा बढ़ गई थी । वातावरण में धूल के कण कुछ ज्यादा घने हो गए थे । किंतु धूल, भीड़ और मस्ती -इन्हीं सब को तो मेला कहते हैं ।
लौटते समय हमारी ई-रिक्शा ने अलग रास्ता लिया । इस बार रामलीला मैदान के आगे से आने के स्थान पर घाटमपुर के प्राइमरी-स्कूल के आगे से रिक्शा ने मुख्य सड़क का रास्ता पकड़ा । इस रास्ते पर तमाम नए मकानों का जाल बिछा हुआ है । खूब चहल-पहल है। शहर लगातार फैल रहा है और उसका विस्तार गॉंवों की तरफ बढ़ता जा रहा है। कुल मिलाकर कोसी पास आ गई और गंगा-दर्शन सुलभ हो गया ।
———————————-
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हमारे दौर में
हमारे दौर में
*Author प्रणय प्रभात*
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
'कोंच नगर' जिला-जालौन,उ प्र, भारतवर्ष की नामोत्पत्ति और प्रसिद्ध घटनाएं।
'कोंच नगर' जिला-जालौन,उ प्र, भारतवर्ष की नामोत्पत्ति और प्रसिद्ध घटनाएं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
Vicky Purohit
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पूर्वार्थ
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
जब प्रेम की परिणति में
जब प्रेम की परिणति में
Shweta Soni
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
Mr.Aksharjeet
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
शोषण
शोषण
साहिल
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
वक्त
वक्त
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
कवि रमेशराज
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
3067.*पूर्णिका*
3067.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
"तजुर्बा"
Dr. Kishan tandon kranti
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
काला दिन
काला दिन
Shyam Sundar Subramanian
अपने-अपने संस्कार
अपने-अपने संस्कार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप क्या समझते है जनाब
आप क्या समझते है जनाब
शेखर सिंह
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
*जन्मदिवस (बाल कविता)*
*जन्मदिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
DrLakshman Jha Parimal
Loading...