Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2022 · 1 min read

मेरे सपने

गीत
मेरे सपने, तेरे सपने
घर पर ही कुर्बान हुए
संतानों ने चढ ली सीढी,
सपने तब संधान हुए

सोचा क्या, पाया फिर हमने
इतनी फुरसत मिली कहां
अंगारों पर चले मुसाफिर
क्या अपने-अरमान हुए

बच्चों ने भी गुल्लक फोड़ी
मां ने गहने बेच दिए
कर्जा कर्जा लदे पिताजी
तब जाकर भगवान हुए।

कुछ बनने की खातिर यूं तो
करते हैं सब, जतन यहां
रखी दिवाली मन के अंदर
बल-बलकर बलिदान हुए।।

सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
हमे भी इश्क हुआ
हमे भी इश्क हुआ
The_dk_poetry
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बर्फ के टीलों से घर बनाने निकले हैं,
बर्फ के टीलों से घर बनाने निकले हैं,
कवि दीपक बवेजा
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
*Author प्रणय प्रभात*
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
कलयुग और महाभारत
कलयुग और महाभारत
Atul "Krishn"
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-246💐
💐प्रेम कौतुक-246💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...