Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

मेरे संग

दिखता था हर रोज़ एक सपना
नई मंज़िले नपती थीं
खिलता था हर रोज़ गुल एक
जब मेरे संग वो चलती थी ।

रत्न बिखरते थें . बालों से
जब जब वो सँवरती थी
उसके गालों पर पड़ते गड्ढे
नई उमंगे भरती थी ।

कभी मिलन की चाह थी होती
कभी विरह का मन होता
अठखेलियों में बीती जवानी
जब मेरे संग वो हँसती थी ।

कभी निशा में छिप के मिलना
कभी देख कर भाव न देना
सब ओर रंगों की बिखरी छटाऐ
जब कभी वो मिलती थी….
हाँ । मेरे संग वो चलती थी ।।

……….अर्श

Language: Hindi
396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मृत्यु (सात दोहे)*
*मृत्यु (सात दोहे)*
Ravi Prakash
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
राजनीति और वोट
राजनीति और वोट
Kumud Srivastava
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
I
I
Ranjeet kumar patre
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
मां ब्रह्मचारिणी
मां ब्रह्मचारिणी
Mukesh Kumar Sonkar
गाँधी हमेशा जिंदा है
गाँधी हमेशा जिंदा है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रेम के मायने
प्रेम के मायने
Awadhesh Singh
■ नेशनल ओलंपियाड
■ नेशनल ओलंपियाड
*प्रणय प्रभात*
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
थोड़ा अदब भी जरूरी है
थोड़ा अदब भी जरूरी है
Shashank Mishra
रूपगर्विता
रूपगर्विता
Dr. Kishan tandon kranti
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
काव्य का राज़
काव्य का राज़
Mangilal 713
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
शक
शक
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
Loading...