Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

मेरे श्याम

मुझे साथ अपने ले चल,
मेरे श्याम…. साँवरे…..
रहता है तू जहाँ पर
मेरे श्याम….. साँवरे…..

वो डारियाँ कदंब की, तेरा साथ मेरे होना;
मेरे सामने रहे ये, तेरा रूप सलोना।
मुझे साथ रखना हर पल,
मेरे श्याम……. साँवरे…..

मैंने ढूँढी ब्रज की गलियाँ, नहीं श्याम तू है पाया,
तेरी मोहिनी सूरत को, मैंने दिल में है बसाया।
मुझे थाम ले तू आकर,
मेरे श्याम….. साँवरे……

रज ब्रज की धेनुओं की, मैंने माथ अपने रख ली,
नवनीत की धवल डलियाँ, मैंने साथ अपने रख ली।
अब कर दे तृप्त आकर,
मेरे श्याम…. साँवरे…..

हर गोपियन से पूछूँ, तेरे घर की मैं डगरिया,
ले साथ अपने आया, दधि-माखन की गगरिया।
मुझे थाम ले हूँ बेकल,
मेरे श्याम….. साँवरे…….
सोनू हंस

Language: Hindi
308 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
Dr. Man Mohan Krishna
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
*मेरे मम्मी पापा*
*मेरे मम्मी पापा*
Dushyant Kumar
*नासमझ*
*नासमझ*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
कितना और सहे नारी ?
कितना और सहे नारी ?
Mukta Rashmi
*अनकही बातें याद करके कुछ बदलाव नहीं आया है लेकिन अभी तक किस
*अनकही बातें याद करके कुछ बदलाव नहीं आया है लेकिन अभी तक किस
Shashi kala vyas
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हम तो किरदार की
हम तो किरदार की
Dr fauzia Naseem shad
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*प्रणय प्रभात*
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
' जो मिलना है वह मिलना है '
' जो मिलना है वह मिलना है '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
चूहा भी इसलिए मरता है
चूहा भी इसलिए मरता है
शेखर सिंह
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
मुड़े पन्नों वाली किताब
मुड़े पन्नों वाली किताब
Surinder blackpen
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
Akib Javed
2512.पूर्णिका
2512.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...