Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Sep 2021 · 2 min read

मेरे बुद्ध महान !

मेरे बुद्ध महान !
(छन्दमुक्त काव्य)
°°°°°°°°°°°°°°
मेरे बुद्ध महान !
तेरी करुणा के सागर से,
उमड़ा था ज्ञान का सैलाब,
पूरे विश्व को आलोकित कर रहा।
तुमने दिखाया था परमानंद का मार्ग,
भुक्ति से विरत मुक्ति का मार्ग।
तुम थे ईश्वर के दिव्य रूप,
छोड़ दिया धन-वैभव बस एक ठोकर में,
कठिन तपस्या से मिली मुक्ति ,
ज्ञानयोग का प्रसार हुआ।
सम्यक ज्ञान के दिव्यज्योति से,
पूरा विश्व आलोकित हुआ।
मेरी राह है बिल्कुल उलट,
मैं खोजूँ भक्ति से मुक्ति का मार्ग,
भुक्ति को साथ लिए।
दर- दर भटकूँ आशीर्वचनों को,
मेरी कठिन राह में भय भी है,
आकांक्षाओं को पूरी न होने का भय,
धन-बल से अपमानित होने का भय,
माया के न मिट पाने का भय,
सत्य का दर्शन न हो पाने का भय।
पर क्या करूँ,
इस कंटकपथ पर जीवन सफर की मजबूरी है,
गृहस्थ धर्म पालन ही मेरी मजबूरी है ,
इस पथ से दूर जाकर,
मैं शांति पा नहीं सकता।
कुटुम्बजनों की विरह वेदना में,
मैं मुक्ति पा नहीं सकता।
फिर तो एक उपाय है,
बोधिवृक्ष के छाँव तले बैठ,
उस मिट्टी को नमन कर,
बटवृक्ष से गिरे पत्ते को,
दिल से लगा कर,
तेरे आभामंडल के कुछ दिव्यप्रकाश ,
अपने आभामंडल में भर लूँ।
सभी जीवों में करुणा,दया का भाव,
अपने हृदय में जगा लूँ।
गृहस्थ धर्म को निभाते हुए,
तेरे बताये लक्ष्य की प्राप्ति हेतु,
तुझसे अलग कुछ कर पाऊँ।
जीवन रूपी इस हलाहल को,
थोड़ा-थोड़ा कर पी जाऊँ।
भक्तियोग के बल पर ही,
मुक्ति का मार्ग प्रशस्त करुँ ।
सनातन धर्म संस्कृति को,
फिर से प्रख्यापित कर पाऊँ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०८ /०९/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

14 Likes · 15 Comments · 1911 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
माँ शारदे-लीला
माँ शारदे-लीला
Kanchan Khanna
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
■ जय हो।
■ जय हो।
*Author प्रणय प्रभात*
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बदल रही है औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
योग महा विज्ञान है
योग महा विज्ञान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविता
कविता
Neelam Sharma
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
"मैं तेरी शरण में आई हूँ"
Shashi kala vyas
जो चाकर हैं राम के
जो चाकर हैं राम के
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सुखदाई सबसे बड़ी, निद्रा है वरदान (कुंडलिया)*
सुखदाई सबसे बड़ी, निद्रा है वरदान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
शेखर सिंह
* जिसने किए प्रयास *
* जिसने किए प्रयास *
surenderpal vaidya
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
बड़े हौसले से है परवाज करता,
बड़े हौसले से है परवाज करता,
Satish Srijan
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
छुट्टी बनी कठिन
छुट्टी बनी कठिन
Sandeep Pande
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Sakshi Tripathi
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अफ़सोस का बीज
अफ़सोस का बीज
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...