Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

मेरे फितरत में ही नहीं है

मेरे फितरत में ही नहीं है,
मैं किसी का भी इस्तेमाल करूं।
बचा लुंगा मैं उसे,
चाहे क्यूं न मैं मरूं।
मेरे फितरत में ही नहीं है . . . . . .
तेरे पाप पुण्य का लेखा जोखा,
ये धर्मकांटा बता देता है।
तू लाख छुपा ले कर्मों को,
तेरे ढोंग पाखंड आडंबर से,
ये सच का आईना सब दिखा देता है।
मेरे फितरत में ही नहीं है
मैं किसी के साथ भी धोखा करूं।
बचा लुंगा मैं उसे,
हर धोखे से क्यूं डरूं।
मेरे फितरत में ही नहीं है . . . . . .
लोगों की स्वाभाव और ब्यवहार,
वक्त के साथ बदल जाते हैं।
कभी अपने से थे उनके करीब,
अब उनके दिल को कहां भाते हैं।
मेरे फितरत में ही नहीं है,
मैं किसी के भी जज्बात से खेलूं।
बचा लुंगा मैं उसे,
दिल्लगी क्यूं करूं।
मेरे फितरत में ही नहीं है . . . . . .
चेहरे पे चेहरे जैसे नकाब लगा लेते हैं लोग।
पहचान ही नहीं आते जैसे बढ़ जाते हैं कई रोग।
मेरे फितरत में ही नहीं है,
मैं किसी को भी ऐसे लूट लूं।
बचा लूंगा मैं उसे,
बे पर्दा क्यूं न करूं।
मेरे फितरत में ही नहीं है . . . . . .
खुली किताब हूं मैं एक एक पन्ना पढ़ सकते हो,
कहीं गलत दिख भी जाए तो तुम लड़ सकते हो।
मेरे फितरत में ही नहीं है,
मैं किसी से भी गद्दारी करूं।
बचा लूंगा मैं उसे,
ईमानदारी क्यूं न करूं।
मेरे फितरत में ही नहीं है . . . . . .

4 Likes · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
(19)
(19)
Dr fauzia Naseem shad
In the end
In the end
Vandana maurya
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
रखकर कदम तुम्हारी दहलीज़ पर मेरी तकदीर बदल गई,
डी. के. निवातिया
2316.पूर्णिका
2316.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुरुष अधूरा नारी बिन है, बिना पुरुष के नारी जग में,
पुरुष अधूरा नारी बिन है, बिना पुरुष के नारी जग में,
Arvind trivedi
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
Aditya Prakash
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नाचे सितारे
नाचे सितारे
Surinder blackpen
उद् 🌷गार इक प्यार का
उद् 🌷गार इक प्यार का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
हश्र का मंज़र
हश्र का मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
रूठकर के खुदसे
रूठकर के खुदसे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
💐अज्ञात के प्रति-135💐
💐अज्ञात के प्रति-135💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अन्तिम करवट
अन्तिम करवट
Prakash juyal 'मुकेश'
Loading...