Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 30, 2022 · 2 min read

मेरे पापा!

शब्द नहीं है मेरे पास , पापा!
कैसे करूँ आपको व्याख्यान।
ऐसी कोई कलम नहीं बनी,
जो लिख सके आपका पुरा गुणगान।

कैसे रंग भरूँ मैं आपके
प्यार को पापा,
जब आपका प्यार निश्चल था,
मेरे लिए अमृत के सामान ।

फिर भी कुछ लिखने की
जो मैं हिम्मत कर रही हूँ ,
वह आपके प्यार से ही
मुझे मिला है पापा।

मैं आपके बिना
कुछ भी नहीं थी,
माँ मेरी रचनाकार थी तो,
आप मेरे मार्गदर्शक थे ।

ईश्वर को मैंने कभी
धरती पर नहीं देखा,
पर उसका रूप मैंने आपके
रूप में देखा है पापा।

पापा ! आप मेरे वो आधार है,
जिसने मुझे मजबूती के साथ
पकड़कर रखा,
और कभी मुझे गिरने नही दिया।

दसों दिशाओं की तरह आप
मेरे लिए सुरक्षा का ढाल
सदा बने रहे,
और मेरे उपर आने वाले हर दर्द को,
आपने खुशी से अपने ऊपर
लेते रहे।
पर मेरे आँखो मै आँसू आने न दिया।

कैसे भुल जाऊँ जब मै आपके
कंधे पर खड़ी होकर कहती थी।
पापा, देखो मै आपसे बड़ी हो गई,
और मेरे इन बातों पर आप
खुशी से ताली बजाते थे।

वह आपका गहरा प्यार ही था,
जो अपने बच्चों को
अपने से ऊपर देखकर
आपको बेहद खुशी मिलती थी।

मैंने कभी आपको बैठे हुए नहीं देखा,
और न ही थका हुआ हूँ कहते हुए सुना ,
जाड़ा ,गर्मी, बरसात मैंने कभी आपको
आराम करते हुए नहीं देखा।

पैसा आपके पास था या नहीं था।
आपने कभी हम सब से जताया ही नही,
न ही हमारे फरमाइशों को
पूरा करने मे कोई कसर छोड़े।

मै इतना ही जानती हूँ पापा
हमारे जन्म पर खुशियों की
बौछार करने वाले।
हमारे हर किलकारियों पर
तन-मन न्योछावर करने वाले।

हमारे नादानियों को समझ,
नई चाल देने वाले,
हमारे गिरने से पहले ही
हमारा हाथ थाम लेने वाले।
साया बनकर जो साथ
हमारे सदा रहने वाले,
आप थे पापा ।

लाख चाँहू मैं आपका उपकार
कभी चुका नहीं सकती हूँ।
मेरी खुशी के लिए आपने
जो बलिदान दिया उसको
कभी भूला नही सकती हूँ

मेरे जीवन को सरल बनाने के लिए
जिसने अपना सब कुछ
न्योछावर किया वह आप ही
तो है पापा।
जिसे ईश्वर ने पापा की काया
के रूप मै मुझे दिया था।

बचपन से जो बिना किसी
शर्तो के सहारा दिया है,
उस वरदान रूप मेरे लिए
आप है पापा ।

क्या कहूँ मै आपको पापा
ईश्वर या भगवान ,
कैसे करूँ आपके प्यार का
गुणगान।
बस करती हूँ मै पापा आपको,
शत-शत बार प्रणाम।

~अनामिका सिंह
नई दिल्ली

15 Likes · 20 Comments · 215 Views
You may also like:
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️कोरोना✍️
"अशांत" शेखर
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
अशांत मन
Mahender Singh Hans
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
" नाखून "
Dr Meenu Poonia
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कालचक्र
"अशांत" शेखर
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
"अशांत" शेखर
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
घुसमट
"अशांत" शेखर
सच्चा प्यार
Anamika Singh
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
वो कहना ही भूल गया
"अशांत" शेखर
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
Loading...