Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 2 min read

मेरे पापा

शब्द नहीं है मेरे पास , पापा!
कैसे करूँ आपको व्याख्यान।
ऐसी कोई कलम नहीं बनी,
जो लिख सके आपका पुरा गुणगान।

कैसे रंग भरूँ मैं,
आपके प्यार को पापा,
जब आपका प्यार निश्चल था,
मेरे लिए अमृत के सामान ।

फिर भी कुछ लिखने की
जो मैं हिम्मत कर रही हूँ ,
वह आपके प्यार से ही
मुझे मिला है पापा।

मैं आपके बिना
कुछ भी नहीं थी,
माँ मेरी रचनाकार थी तो,
आप मेरे मार्गदर्शक थे ।

ईश्वर को मैंने कभी
धरती पर नहीं देखा,
पर उसका रूप मैंने आपके
रूप में देखा है पापा।

पापा ! आप मेरे वो आधार है,
जिसने मुझे मजबूती के
साथ पकड़कर रखा,
और कभी मुझे गिरने नही दिया।

दसों दिशाओं की तरह आप
मेरे लिए सुरक्षा का ढाल सदा बने रहे,
और मेरे उपर आने वाले हर दर्द को,
आपने खुशी से अपने ऊपर लेते रहे।
पर मेरे आँखो मै आँसू आने न दिया।

कैसे भुल जाऊँ जब मै आपके
कंधे पर खड़ी होकर कहती थी।
पापा, देखो मै आपसे बड़ी हो गई,
और मेरे इन बातों पर आप
खुशी से ताली बजाते थे।

वह आपका गहरा प्यार ही था,
जो अपने बच्चों को
अपने से ऊपर देखकर
आपको बेहद खुशी मिलती थी।

मैंने कभी आपको बैठे हुए नहीं देखा,
और न ही थका हुआ हूँ कहते हुए सुना ,
जाड़ा ,गर्मी, बरसात मैंने कभी
आपको आराम करते हुए नहीं देखा।

पैसा आपके पास था या नहीं था।
आपने कभी हम सब से जताया ही नही,
न ही हमारे फरमाइशों को
पूरा करने मे कोई कसर छोड़े।

मै इतना ही जानती हूँ पापा
हमारे जन्म पर खुशियों की
बौछार करने वाले।
हमारे हर किलकारियों पर
तन-मन न्योछावर करने वाले ।

हमारे नादानियों को समझ,
नई चाल देने वाले,
हमारे गिरने से पहले ही
हमारा हाथ थाम लेने वाले।
साया बनकर हमेशा साथ
हमारे सदा रहने वाले,
आप थे पापा ।

लाख चाँहू मैं आपका उपकार
कभी चुका नहीं सकती हूँ।
मेरी खुशी के लिए आपने
जो बलिदान दिया उसको
कभी भूला नही सकती ।

मेरे जीवन को सरल बनाने के लिए
जिसने अपना सब कुछ
न्योछावर कर दिया,
वह आप ही तो है पापा।
जिसे ईश्वर ने पापा की काया
के रूप मै मुझे दिया है।

बचपन से जो बिना किसी
शर्तो के सहारा दिया है,
उस वरदान रूप मेरे लिए
आप है पापा ।

क्या कहूँ मै आपको पापा
ईश्वर या भगवान ,
कैसे करूँ मै आपके
प्यार का गुणगान।
बस करती हूँ मै पापा आपको,
शत-शत बार प्रणाम।

~अनामिका सिंह
नई दिल्ली

18 Likes · 24 Comments · 1256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
आकांक्षा तारे टिमटिमाते ( उल्का )
goutam shaw
तंज़ीम
तंज़ीम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
जानो धन चंचल महा, सही चंचला नाम(कुंडलिया)
जानो धन चंचल महा, सही चंचला नाम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
वो ही प्रगति करता है
वो ही प्रगति करता है
gurudeenverma198
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
■ एम है तो एम है।
■ एम है तो एम है।
*Author प्रणय प्रभात*
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2275.
2275.
Dr.Khedu Bharti
आखिर शिथिलता के दौर
आखिर शिथिलता के दौर
DrLakshman Jha Parimal
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
दोस्त और दोस्ती
दोस्त और दोस्ती
Neeraj Agarwal
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
ब्रह्मांड के विभिन्न आयामों की खोज
Shyam Sundar Subramanian
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
जय माता दी 🙏
जय माता दी 🙏
Anil Mishra Prahari
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
तीन स्थितियाँ [कथाकार-कवि उदयप्रकाश की एक कविता से प्रेरित] / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
Loading...