Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

“मेरे पापा “

संयम,समर्पण,पितृ स्नेह का मेरे पापा सम्पूर्ण आकाश थे,
माँ जो स्नेह की थी अविरल सरिता, पापा मेरे सागर थे।

अपने बच्चों के पिता संग वो अनुजों के पालक भी थे,
जीवन के आदर्श, हम भाई – बहिनों की वो हिम्मत थे।

संघर्षों की बहती बूंदों से, सींचते घर की हर खुशी थे,
स्वाभिमानी व्यक्तिव और बेहद सादगी पसंद भी थे।

बाहर से स्वभाव में लगते सख्त पर दिल के वो नर्म थे,
परिवार की हर उम्मीद,हिम्मत,वो ही अटूट विश्वास थे।

सबकी ख़्वाहिशों और पसंद की सदा रखते परवाह थे,
गिला यही रहा कि अपने लिये वो बेहद लापरवाह से थे।

हमारे सपनों को रंग भरने में ही रहते वो सदा तत्पर थे,
पापा जिम्मेदारियों से लदी गाड़ी के कुशल सारथी जो थे।

चुनौतियों में बनते सदा ही, हौसलों की मजबूत दीवार थे,
पापा मेरे,आप तो आशीर्वाद का एक विस्तृत आकाश थे।

स्वरचित एवं मौलिक
© ® उषा शर्मा
जामनगर (गुजरात)

3 Likes · 3 Comments · 267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“लिखें तो लिखें क्या ?”–व्यंग रचना
“लिखें तो लिखें क्या ?”–व्यंग रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ना फूल मेरी क़ब्र पे
ना फूल मेरी क़ब्र पे
Shweta Soni
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
"सत्य" युग का आइना है, इसमें वीभत्स चेहरे खुद को नहीं देखते
Sanjay ' शून्य'
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
कविता का प्लॉट (शीर्षक शिवपूजन सहाय की कहानी 'कहानी का प्लॉट' के शीर्षक से अनुप्रेरित है)
Dr MusafiR BaithA
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"जो डर गया, समझो मर गया।"
*प्रणय प्रभात*
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
वक्त सबको पहचानने की काबिलियत देता है,
Jogendar singh
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
*मित्र*
*मित्र*
Dr. Priya Gupta
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
Aarti sirsat
सुंदरता की देवी 🙏
सुंदरता की देवी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/18.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
शेखर सिंह
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
*कभी उन चीजों के बारे में न सोचें*
नेताम आर सी
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
Loading...