Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

– मेरे दिल की कलम तेरे लिए –

– मेरे दिल की कलम तेरे लिए –
मेरे दिल की कलम तेरे लिए है,
मेरे दिल की धड़कन तेरे लिए,
मेरी सांसों में बसी हुई जो,
मेरी रूह तेरे लिए है ,
मेरी आंखो की चमक भी तो तेरे लिए,
मेरी नजरो का नूर बस तेरे लिए,
दिल में रहने का अधिकार सिर्फ तेरे लिए,
मेरे दिल की कलम तेरे लिए,
✍️✍️ भरत गहलोत
जालोर राजस्थान
संपर्क सूत्र -7742016184 –

Language: Hindi
160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
चलेंगे साथ जब मिलके, नयी दुनियाँ बसा लेंगे !
चलेंगे साथ जब मिलके, नयी दुनियाँ बसा लेंगे !
DrLakshman Jha Parimal
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
Sonam Pundir
चाय पीते और पिलाते हैं।
चाय पीते और पिलाते हैं।
Neeraj Agarwal
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
मोम की गुड़िया
मोम की गुड़िया
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
तू याद कर
तू याद कर
Shekhar Chandra Mitra
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
रिमझिम रिमझिम बारिश में .....
रिमझिम रिमझिम बारिश में .....
sushil sarna
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
"यही दुनिया है"
Dr. Kishan tandon kranti
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
भविष्य के सपने (लघुकथा)
भविष्य के सपने (लघुकथा)
Indu Singh
सभी देखेंगे तेरी इक हॅंसी को।
सभी देखेंगे तेरी इक हॅंसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*वाल्मीकि आश्रम प्रभु आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
मुक्ति
मुक्ति
Shashi Mahajan
आग कहीं और लगी है
आग कहीं और लगी है
Sonam Puneet Dubey
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
The best way to end something is to starve it. No reaction,
The best way to end something is to starve it. No reaction,
पूर्वार्थ
Loading...