Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

मेरे दिल ओ जां में समाते जाते

1)मेरी बेचैन सी धड़कन को मनाते जाते
हमनफ़स मेरे दिलों जां में समाते जाते

2)दास्तां हम भी अगर अपनी सुनाते जाते
तुमको पाबंद मोहब्बत का बनाते जाते

3)ख़्वाब की तुमने जो तस्वीर दिखाई थी मुझे
उसकी ताबीर कभी ख़ुद ही बताते जाते

4) गुनगुनाते थे जो ख़ामोश लबों पर अपने
हमको भी काश वो नग़्मात सुनाते जाते

5)मेरी पलकों पे है अश्कों का चराग़ांँ जानाँ
इन चिराग़ों को कभी आ के बुझाते जाते

6)उम्र भर साथ निभाने का न करते वादा
भूल जाना था तो हर याद मिटाते जाते

7)अब तो हर पल तुम्हें तकती हैं निगाहें मेरी
मेरी नज़रों की शुआओं को मिटाते जाते

8) मंतशा ग़म का मौसम जो मुझपे छाया है
इक मुलाक़ात से तुम मुझको हॅंसाते जाते

🌹मोनिका मंतशा🌹

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
डी. के. निवातिया
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
गुमनाम 'बाबा'
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
" मैं सिंह की दहाड़ हूँ। "
Saransh Singh 'Priyam'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वसियत जली
वसियत जली
भरत कुमार सोलंकी
निज धर्म सदा चलते रहना
निज धर्म सदा चलते रहना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
Harminder Kaur
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
Ajad Mandori
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
माई कहाँ बा
माई कहाँ बा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
gurudeenverma198
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
भले ही शरीर में खून न हो पर जुनून जरूर होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
कुछ याद बन
कुछ याद बन
Dr fauzia Naseem shad
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
"आत्मदाह"
Dr. Kishan tandon kranti
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*किसान*
*किसान*
Dr. Priya Gupta
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
Loading...