Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 2 min read

मेरे कुछ मुक्तक

मेरे कुछ मुक्तक

(1)
हृदय की बात मत करना हृदय मजबूर होता है ।
हृदय की बात के आगे न कुछ मंजूर होता है ।
बताता है चलाता है फैसले तक सुनाता है
हृदय की चाल चलने का अलग दस्तूर होता है।
(2)
स्वयं को साध कर रखना आनन्द ही आनन्द है।
नेह को बांध कर रखना आनन्द ही आनन्द है ।
सजग रहना अथक सहना दूसरों के लिए जीना
बिना लालच के कुछ करना आनन्द ही आनन्द है।।
(3)
नहीं पहचान बिकती है न अनजान बिकता है ।
जानवर की तरह देखो फ़क़त इंसान बिकता है।
चंद सिक्को की खातिर हवस की आग जलती है
आज के दौर में देखो सिर्फ ईमान बिकता है ।
(5)
हकीकत जानते सब है मगर कोई कह नहीं पाता।
तटों के संग चल कर भी धार में बह नही जाता ।
वही जीना वहीं मरना वहीं सब ख़्वाब का बुनना
पटक लो लाख सिर लेकिन गति को सह नही पाता।
(5)
एक एक साँस को भर कर जीना ही हकीकत है।
यहीं सब भोग कर मरना जन जन की हकीकत है।
न लेना हैं न देना है नहीं कोई आस तलक रखनी
लिखा जितना मुकद्दर में उतना मिलना हकीकत है।।
(6)
खार तो खार होता है कभी मीठा नही होता ।
उठाएं आँख रखता है कभी झुकना नही होता।
वो अपने तीखेपन की बना कर साख रखता है
कभी भी टूट कर गिरना या मुरझाना नही होता।।
(7)

गुलों से तुम करो बातें हमे तो खार बेहतर है।
फूल मुरझायेंगे पर शूल मर कर भी बेहतर है।
हवा की न फ़िकर उसको धूप भी उसको प्यारी है
जिंदगी को सिखा जाता दुख तो सुख से बेहतर है।।
(8)
न पाने का असर देखा न खोने का असर देखा ।
सुबह और शाम दोंनो में हवाओं का असर देखा ।
हुई नाकाम सब कोशिश हार थक करके सब बैठे
उसी बस वक्त में हमने दुआओं का असर देखा ।।
(9)
दवा जब काम न आये दुआ तब काम करती है।
दिलो की गहर से चल कर लबों पर नाम रटती है।
उभरती है लिए जिसके है उसी में डूबती देखी
असर होने तलक बस वह अपना काम करती ll
सुशीला जोशी
9719260777

Language: Hindi
31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
*पानी बरसा हो गई, आफत में अब जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
पं अंजू पांडेय अश्रु
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
अपनी आवाज में गीत गाना तेरा
Shweta Soni
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
अंदाज़-ऐ बयां
अंदाज़-ऐ बयां
अखिलेश 'अखिल'
तुम मुझे दिल से
तुम मुझे दिल से
Dr fauzia Naseem shad
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
हैं जो कुछ स्मृतियां वो आपके दिल संग का
दीपक झा रुद्रा
प्रेम पीड़ा
प्रेम पीड़ा
Shivkumar barman
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
"दोस्ती के लम्हे"
Ekta chitrangini
कसौटी
कसौटी
Sanjay ' शून्य'
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*प्रणय प्रभात*
"संघर्ष "
Yogendra Chaturwedi
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
Loading...