Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

मेरी है बड़ाई नहीं

मेरी है बड़ाई नहीं
करते सब आप प्रभु,
लोगों की जुबान का
पुकारी बन गया हूँ मैं।

पूंछता न कोई कभी
कौन हूँ कहाँ से आया,
रामकृपा बॉस का
स्वीकारी बन गया हूँ मैं।

आता जाता कुछ नहीं
रहमत तुम्हारी प्रभु,
लोगों के मध्य
जानकारी बन गया हूँ मैं।

अपने करतार का
मनुहारी हूँ सदा के लिए,
हल्दी की गांठ से
पंसारी बन गया हूं मैं ।

मैं अनजान था
न ज्ञान रहा मेरे पास,
फिर भी वाइट जिप्सी का
सवारी बन गया हूँ मैं ।

नजरे इनायत हुई
ठाकुरजी की मेरे ऊपर ।
सेना में अफसर
सरकारी बन गया हँ मैं |

सतीश सृजन.लखनऊ

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
आँखों से काजल चुरा,
आँखों से काजल चुरा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
मन में पल रहे सुन्दर विचारों को मूर्त्त रुप देने के पश्चात्
Paras Nath Jha
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
*रावण (कुंडलिया)*
*रावण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ संजीदगी : एक ख़ासियत
■ संजीदगी : एक ख़ासियत
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
कभी हुनर नहीं खिलता
कभी हुनर नहीं खिलता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2280.पूर्णिका
2280.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
Shekhar Chandra Mitra
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
शेखर सिंह
ये दुनिया घूम कर देखी
ये दुनिया घूम कर देखी
Phool gufran
Neet aspirant suicide in Kota.....
Neet aspirant suicide in Kota.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
नयी नवेली
नयी नवेली
Ritu Asooja
नहले पे दहला
नहले पे दहला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...