Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

मेरी शायरी

ये जो दो मिसरे और दो नब्ज़, मैं कहने वाला हूँ,
ये मेरे महबूब की मोहब्बत है जिसका मैं होने वाला हूँ..!

उसके होंठों से सुन लोगे जो मेरी नाजुक शायरी,
वो आँखों से लिख देती है मैं बस उसी को पढ़ने वाला हूँ..!

उसके गुलाबी होंठ हैं और झील सी गहरी आंखें हैं खबरदार,
तुम दूर से ही नजारा देखोगे अब मैं उसी मैं तैरने वाला हूँ..!

उसे देखते ही तुम रूह छोड़ दोगे अपने बदन से,
मैं छोड़ चुका हूँ ज़िस्म को अब उसी की रूह में खोने वाला हूँ..!

वो हवा है मदहोश सी जो उठती है पूरब के सागर से,
मैं धुएं का बादल हूँ जो सावन की तरह अब बरसने वाला हूँ..!

पगडंडियों के जैसे हैं उसके बदन के मोड़,
मैं राही अलबेला हूँ अब उन्हीं पर चलने वाला हूँ.!

बजता है राग उसकी धड़कनों का मेरे मासूम जिगर में,
तुम भी दिल पर हाथ रखकर सुनिए मैं बस वही लिखने वाला हूँ..!

Language: Hindi
1 Like · 351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
"आग और पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
Ravi Prakash
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-541💐
💐प्रेम कौतुक-541💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
मेरा यार
मेरा यार
rkchaudhary2012
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
"ख़्वाहिशें उतनी सी कीजे जो मुक़म्मल हो सकें।
*Author प्रणय प्रभात*
मुकद्दर तेरा मेरा
मुकद्दर तेरा मेरा
VINOD CHAUHAN
गुनो सार जीवन का...
गुनो सार जीवन का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Just try
Just try
पूर्वार्थ
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
.........,
.........,
शेखर सिंह
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
Loading...