Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2024 · 1 min read

मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,

मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
इस बेदर्द दुनिया में अक्सर…
प्यार ही मजबूर हुआ करता है।

प्रिया प्रिंसेस पवाँर
स्वरचित,मौलिक
द्वारका मोड़,नई दिल्ली-78

3 Likes · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
आए प्रभु करके कृपा , इतने दिन के बाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
कुछ बिखरे ख्यालों का मजमा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
फ़ासले जब भी
फ़ासले जब भी
Dr fauzia Naseem shad
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
"पहचानिए"
Dr. Kishan tandon kranti
■ प्रणय का गीत-
■ प्रणय का गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
💐प्रेम कौतुक-536💐
💐प्रेम कौतुक-536💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
3394⚘ *पूर्णिका* ⚘
3394⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
लोग रिश्ते या शादियों के लिए सेल्फ इंडिपेंडेसी और सेल्फ एक्च
लोग रिश्ते या शादियों के लिए सेल्फ इंडिपेंडेसी और सेल्फ एक्च
पूर्वार्थ
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
अमृत पीना चाहता हर कोई,खुद को रख कर ध्यान।
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...