Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की

मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की,
तेरी फितरत है, मुझे मिटाने की।
सारा जीवन, तुम पर कुर्बान किया।
जो भी था पास मेरे,सब तेरे नाम किया।।
मैंने तुमको, सदा बहारें दीं।
सारी दुनिया को, जिंदगी दे दी।
खुद सहता रहा, बारिश ठंड और दुपहरी को
फल फूल छांव, तेरी सांसें दे दीं।
फिर क्यों तुमने, मुझे ही मार दिया।
बड़ी बेदर्दी से, मुझे काट दिया।।
तुमको चाहा, तुम पर कुर्बान हुआ।
जाने किस जुर्म की, सज़ा दे दी।
मैंने तुमको सदा, महफूज रखा,
तुम्हारे नाम की, जिंदगी सारी।
कितने अहसान फरामोश हो तुम,
बे बजह क्यों?तुमने चला दी आरी।।
जाते-जाते एक बात, तुमसे कहता हूं
अंतिम चेतावनी, तुमको देता हूं।
फितरत तेरी,बदली न अगर।
तुम भी न रह पाओगे, मेरे बगैर।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

11 Likes · 4 Comments · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
■ आज की सलाह...
■ आज की सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
वो परिंदा, है कर रहा देखो
वो परिंदा, है कर रहा देखो
Shweta Soni
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
यह दुनिया है जनाब
यह दुनिया है जनाब
Naushaba Suriya
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
एक कहानी- पुरानी यादें
एक कहानी- पुरानी यादें
Neeraj Agarwal
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मन में जिसके लग गई, प्रभु की गहरी प्यास (कुंडलिया)*
*मन में जिसके लग गई, प्रभु की गहरी प्यास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
💐प्रेम कौतुक-496💐
💐प्रेम कौतुक-496💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
Harminder Kaur
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
सुना था,
सुना था,
हिमांशु Kulshrestha
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
Loading...