Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2023 · 1 min read

मेरी पहली चाहत था तू

मेरी पहली चाहत था तू
पर तूने समझा ही नही
आया अपनी जरूरत को तू
साथ मेरे टिक पाया नही
डॉ मंजु सैनी
गाजियाबाद

1 Like · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
एक पति पत्नी भी बिलकुल बीजेपी और कांग्रेस जैसे होते है
शेखर सिंह
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
Surinder blackpen
कैसे बचेगी मानवता
कैसे बचेगी मानवता
Dr. Man Mohan Krishna
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
■ आखिरकार ■
■ आखिरकार ■
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
कविता
Shiv yadav
💐प्रेम कौतुक-540💐
💐प्रेम कौतुक-540💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
कवि दीपक बवेजा
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
"कदर"
Dr. Kishan tandon kranti
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
पूछो हर किसी सेआजकल  जिंदगी का सफर
पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
पूर्वार्थ
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
गाँधीजी (बाल कविता)
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
वाह भई वाह,,,
वाह भई वाह,,,
Lakhan Yadav
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...