Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो

(13)
ज़िन्दगी बे’जवाब रहने दो।
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो।।

खुद की इस्लाह कर सकूं मैं भी ।
मुझको कुछ तो खराब रहने दो ।।

इतने ज़यादा गुनाह नहीं अच्छे ।
कुछ तो बाकी सवाब रहने दो ।।

देख लो एक नज़र मुझे यूँ ही ।
मुझमें शामिल शबाब रहने दो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
13 Likes · 384 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*लब मय से भरे मदहोश है*
*लब मय से भरे मदहोश है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
#कालजयी_पात्र
#कालजयी_पात्र
*प्रणय प्रभात*
3662.💐 *पूर्णिका* 💐
3662.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्रेम जीवन में सार
प्रेम जीवन में सार
Dr.sima
शिव शंभू भोला भंडारी !
शिव शंभू भोला भंडारी !
Bodhisatva kastooriya
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
Vindhya Prakash Mishra
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
तस्मात् योगी भवार्जुन
तस्मात् योगी भवार्जुन
सुनीलानंद महंत
"दिल को"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल _ इस जहां में आप जैसा ।
ग़ज़ल _ इस जहां में आप जैसा ।
Neelofar Khan
Time and tide wait for none
Time and tide wait for none
VINOD CHAUHAN
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
साथ
साथ
Dr fauzia Naseem shad
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
*बुरे फँसे कवयित्री पत्नी पाकर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
वो बातें
वो बातें
Shyam Sundar Subramanian
Loading...