Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2022 · 1 min read

मेरी निंदिया तेरे सपने …

मेरी निंदिया तेरे सपने …
लोरी (प्रयास)
मनोरमा जैन पाखी

गा गा के सुनाऊँ लोरी तुझे
अपना सा लागे है तू मुझे
सपन सलोने लेकर आये
चंदा देख, गगन मुस्काये।

परियों के देश ले चलूँ तुझे
फूलों की नगरी ले चलूँ तुझे
हो मेरी निंदिया में सपने तेरे
रुई के फाहे संग बादल तेरे ।

थपकी दे के सुलाऊँ तुझे मैं
आजा चंदा ..बुलाऊँ तुझे मैं।
बोझिल पलकें,सपने कल के
निदिंया रानी दिखाये चल के।

चिडि़यों का घर है वो प्यारा
जंगल में रहता कुनबा न्यारा
रेत की सीपी से निकले मोती
आजा लाल, स्वप्न मैं पिरोती।

गुनगुन करके उड़ती तितली
डोले इत उत भँवरा चिकली
कोयल मीठे गीत सुनाती
सोजा चंदा ..तुझे सुलाती

✍️पाखी

2 Likes · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन के रंगो संग घुल मिल जाए,
जीवन के रंगो संग घुल मिल जाए,
Shashi kala vyas
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी किसी की सुंदरता से प्रभावीत होकर खुद को उसके लिए समर्पित
कभी किसी की सुंदरता से प्रभावीत होकर खुद को उसके लिए समर्पित
Rituraj shivem verma
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
सरहद पर गिरवीं है
सरहद पर गिरवीं है
Satish Srijan
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
जुल्मतों के दौर में
जुल्मतों के दौर में
Shekhar Chandra Mitra
"Always and Forever."
Manisha Manjari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"अहा जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
लड्डू बद्री के ब्याह का
लड्डू बद्री के ब्याह का
Kanchan Khanna
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
Anil chobisa
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
"बचपन याद आ रहा"
Sandeep Kumar
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
होली, नौराते, गणगौर,
होली, नौराते, गणगौर,
*Author प्रणय प्रभात*
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
दहन
दहन
Shyam Sundar Subramanian
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
The_dk_poetry
2541.पूर्णिका
2541.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
Loading...