Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा

मेरी दुनिया उजाड़ कर मुझसे वो दूर जाने लगा
जरा सी बात क्या हुई वो मुझे आजमाने लगा

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
मुजरिम हैं राम
मुजरिम हैं राम
Shekhar Chandra Mitra
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
मन
मन
Punam Pande
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
💐प्रेम कौतुक-245💐
💐प्रेम कौतुक-245💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*बोलो अंग्रेजी सदा, गाँठो रौब अपार (हास्य कुंडलिया)*
*बोलो अंग्रेजी सदा, गाँठो रौब अपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज की प्रेरणा
■ आज की प्रेरणा
*Author प्रणय प्रभात*
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
कृषक
कृषक
साहिल
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
'अशांत' शेखर
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
"शब्दों का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...