Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2024 · 1 min read

मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में

निगाहें ढूंढ़ती तुमको हर एक महफ़िल में,
तेरी सूरत सलोनी बस गई है मेरे इस दिल में,
बहुत सोचा बहुत चाहा भुलाना तुमको इस दिल से मगर पाया मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में।

✍️कवि कुमार देवेश

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
महसूस तो होती हैं
महसूस तो होती हैं
शेखर सिंह
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
रूह का रिश्ता
रूह का रिश्ता
Seema gupta,Alwar
पुरानी क़मीज़
पुरानी क़मीज़
Dr. Mahesh Kumawat
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
मां शैलपुत्री
मां शैलपुत्री
Mukesh Kumar Sonkar
वो जो कहते है पढ़ना सबसे आसान काम है
वो जो कहते है पढ़ना सबसे आसान काम है
पूर्वार्थ
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
अदाकारियां
अदाकारियां
Surinder blackpen
"आज की रात "
Pushpraj Anant
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*अनार*
*अनार*
Ravi Prakash
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
Mahendra Narayan
छोटे छोटे सपने
छोटे छोटे सपने
Satish Srijan
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
गुमनाम 'बाबा'
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...