Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 2 min read

मेरी अम्मा तेरी मॉम

पहले समय में अम्मा होती,
अब होती हैं मॉम।
अम्मा तो थी निरा देहाती,
मॉम का है बड़ा नाम।
अम्मा अपना दूध पिलाती,
गाल बाल सहलाती।
बुकवा तेल की मालिश करती,
लोरी से बहलाती।
आँचल से मेरी देह पोंछती,
लेती रोज बलैया।
आंख में काजर माथ पे टीका,
चुल्ला जोड़ कलैया।
मेरे नाम पर दान बांटती
हरछठ सकठ उपवास।
मेरा लल्ला बने तिलंगा,
लघु सपने बड़ी आश।
मैं बनू लंबा हट्टा कट्टा,
नित देती पय नैनूं।
सुंदर लगूं सदा सब जगह,
खूब सजाती मैनूं।
अम्मा के आशीष वजह से,
हूँ खुशहाल निरोग।
उनकी सीख मार्ग पर्दशन,
कर रहा हूँ सुख भोग।
तब सब अम्मा एक तरह थी,
क्या तेरी क्या मेरी।
सुत पर पल पल थी न्यौछावर,
देती दुआ घनेरी।
हरि ऊपर धरती पर मां थी,
दोनों का इक काम।
जितनी अम्मा हैं इस जग में,
सबको मेरा प्रनाम।

अब मम्मी की हाल सुनाऊं,
सुनो कान कर खोल।
आंग्ल बात में माहिर मम्मी,
वही सिखाती बोल।
कृतिम दूध डिब्बे का लाकर,
बोतल में घोल पिलाती।
न लोरी न थपकी आँचल,
इंग्लिश में कुछ गाती।
ज्यादातर तो आया करती,
ऊपर के सब काम।
चिंटू पलता पलने अंदर,
आफिस होती मॉम।
मॉम को केवल एक ही चिंता,
निज फिगर का ध्यान।
सो वह भूल से भी न देती,
शिशु को स्तनपान।
किट्टी पार्टी से न फुर्सत,
बच्चा पाले आया।
जीन्स टॉप में न हो आँचल,
अजब मॉम की माया।
चिंटू अपने आप ही बढ़ता,
मदद करे शिशु वाकर।
डाइपर बदलन दूध पिलावन,
करते नौकर चाकर।
थोड़ा चिंटू बड़ा हुआ तो,
कान्वेंट स्कूल मिला।
चिंटू हैपी मॉम भी हैप्पी,
कहीं न कोई गिला।
पिज्जा बर्गर मैगी मोमो
चिप्स चॉकलेट बार।
दाल भात तो कभी कभी ही,
मुख्य यही आहार।
चिंटू बनकर बड़ अभियंता,
यू एस ए जाए फंसा।
किसी गोरी संग ब्याह रचा कर,
परमानेंट बसा।
वैसे तो मॉम और पापा,
दोनों पाते पेंसन।
लेकिन आपस में न पटती,
रहती घर में टेन्सन।
पैसा कम हो भले पास में
पर अपने न हो दूर।
एक दूजे का सुख दुख बांटे,
तब जीवन भरपूर।
शक्तिशाली परम्परा थी अपनी,
रीति और संस्कार।
आंग्ल सभ्यता से मोहित हो,
सब हुआ बंटाधार।
नया जमाना नई चलन है,
टुंडा हो गया टॉम।
फूलमती अम्मा के दिन गए,
चिंकी बन गयी मॉम।

-सतीश सृजन

Language: Hindi
437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
पायल
पायल
Dinesh Kumar Gangwar
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
2381.पूर्णिका
2381.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
चार लोगों के चक्कर में, खुद को ना ढालो|
चार लोगों के चक्कर में, खुद को ना ढालो|
Sakshi Singh
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
नारी टीवी में दिखी, हर्षित गधा अपार (हास्य कुंडलिया)
नारी टीवी में दिखी, हर्षित गधा अपार (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुदरत के रंग....एक सच
कुदरत के रंग....एक सच
Neeraj Agarwal
आईना
आईना
Sûrëkhâ
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*प्रणय प्रभात*
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
दोहा त्रयी. .
दोहा त्रयी. .
sushil sarna
ज़िद..
ज़िद..
हिमांशु Kulshrestha
कविता
कविता
Rambali Mishra
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
Dr MusafiR BaithA
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
Loading...