Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

मेरा सपना

मेरा सपना मेरा है,
किसी की दी हुई दौलत नहीं है,
सपना भले ही बड़ा देखो,
मगर पूरा देखो,
लोग तो रोकेंगे भी,
और टोकेगे भी,
लेकिन तुम अपना देखो,
और तुम याद रखो,
कोई तुम्हारा साथ नहीं,
कोई तुम्हारे लिए नहीं,
अभी तो एक पन्ना भरा है,
अभी तो पूरी किताब बाकी है,
क्योंकि तुम्हारी उड़ान बाकी है,
जिस दिन कुछ बन जाओगे,
लोग तुम्हारे पीछे भागेंगे,
जिस दिन कुछ कर जाओगे,
वही लोग तुम्हारे साथ जागेंगे,
लोगो का काम है कहना,
लोग क्या कुछ नहीं कहते,
मैंने लोगों को बदलते देखा है,
अपनों को बातें पलटते देखा है,
ये बात याद रखना,
गिराने के लिए हज़ार खड़े हैं,
उठाना तुम्हें खुद ही है,
ये दुनिया है जनाब,
आगे बढ़ना तुम्हें खुद ही है,
क्योंकि मेरा सपना मेरा है,
किसी की दी हुई दौलत नहीं|

6 Likes · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"किवदन्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
न हम नजर से दूर है, न ही दिल से
न हम नजर से दूर है, न ही दिल से
Befikr Lafz
23/13.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/13.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यूं बहाने ना बनाया करो वक्त बेवक्त मिलने में,
यूं बहाने ना बनाया करो वक्त बेवक्त मिलने में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
पहली बारिश..!
पहली बारिश..!
Niharika Verma
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
sushil sarna
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
#हिन्दुस्तान
#हिन्दुस्तान
*प्रणय प्रभात*
डीजल पेट्रोल का महत्व
डीजल पेट्रोल का महत्व
Satish Srijan
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
सर्वप्रथम पिया से रंग
सर्वप्रथम पिया से रंग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पिता
पिता
Swami Ganganiya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक सत्य यह भी
एक सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मानवता का
मानवता का
Dr fauzia Naseem shad
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
*बल गीत (वादल )*
*बल गीत (वादल )*
Rituraj shivem verma
जानता हूं
जानता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...