Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

मेरा बचपन

बड़ी खूबसूरत थीं बचपन की बातें
खो खो लंगड़ी धौल धप्पा की बातें
दिन की न फ़िकर बेफिक्र सी रातें
रात को नानी के क़िस्सों की यादें
चंदा के स्वेटर के साइज की मापें
कहाँ गए वो बादल काग़ज़ की नावें
मेरे ही थे दिन वो , मेरी ही रातें

34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
Surya Barman
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
रुलाई
रुलाई
Bodhisatva kastooriya
याद हमारी बहुत आयेगी कल को
याद हमारी बहुत आयेगी कल को
gurudeenverma198
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
मैं कीड़ा राजनीतिक
मैं कीड़ा राजनीतिक
Neeraj Mishra " नीर "
*आगे आनी चाहिऍं, सब भाषाऍं आज (कुंडलिया)*
*आगे आनी चाहिऍं, सब भाषाऍं आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
जहाँ बचा हुआ है अपना इतिहास।
Buddha Prakash
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बातें की बहुत की तुझसे,
बातें की बहुत की तुझसे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
नाही काहो का शोक
नाही काहो का शोक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बड़े ही खुश रहते हो
बड़े ही खुश रहते हो
VINOD CHAUHAN
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"कला"
Dr. Kishan tandon kranti
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
Harminder Kaur
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा-
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा- "जानते हो, मेरा बैंक कौन है...?"
*प्रणय प्रभात*
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...