Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

मेरा प्रेम पत्र

मेरा प्रेम पत्र
***********
दुनिया में सबसे अनूठा होगा,
न फूल छुपे होंगे,
न ख़ून से लिखा गया होगा,
न इत्र में नहाया,
न फूल पत्तियों से सजा होगा,
न छपे होंगे दिल,
न लबो का उसपे निशां होगा,
न धड़कती नब्ज होगी,
न सांसों का सिलसिला होगा,
न गिरेगी बिजलियाँ,
न बारिश का शमां होगा,
न सावन का जिक्र,
न बासंती उड़ा फाग होगा,
न कोयल की कूक,
न पपीहे का मल्हार राग होगा,
न लिखे होंगे प्रेम शब्द,
न कवियों शायरों का गान होगा !
_____

वो होगा सफ़ेद कोरा कागज़,
तुम्हारे बेदाग़ आँचल की तरह,
जिसे पढ़ पाओगे केवल तुम,
निहितार्थ हृदय तरंग की तरह !

ज्यों नभ, धरा पर टूटा होगा,
दुनिया में सबसे अनूठा होगा
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,’मेरा प्रेम पत्र’ !!

डी के निवातिया

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
जनता के आवाज
जनता के आवाज
Shekhar Chandra Mitra
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
*क्षीर सागर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
विवेक
विवेक
Sidhartha Mishra
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-419💐
💐प्रेम कौतुक-419💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
2938.*पूर्णिका*
2938.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
बालकों के जीवन में पुस्तकों का महत्व
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
Manoj Mahato
हर वर्ष जला रहे हम रावण
हर वर्ष जला रहे हम रावण
Dr Manju Saini
Kbhi Karib aake to dekho
Kbhi Karib aake to dekho
Sakshi Tripathi
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
Loading...