Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

मेरा परिचय

मैं एक जज्बाती लड़की हूं ,
बस जज्बात समझती हूं।
मां का न होना है बचपन से,
लेकिन पिता का हर बात समझती हूं।
यूं तो बहुत कहानियां है जिंदगी में,
लेकिन कुछ कहानियों को मैं बेकाज समझती हूं।
विश्वाश है मुझे मेरे कर्म पर,
इसलिए जो मिला उसे कर्म का राज समझती हूं।
इस उम्र में प्रेम की समझ हो गई,
और मैं प्रेम को बेबाक समझती हूं।
मैं एक जज्बाती लड़की हूं,
सिर्फ जज्बात समझती हूं।

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
बाल कविता : बादल
बाल कविता : बादल
Rajesh Kumar Arjun
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
Raju Gajbhiye
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
.
.
Ragini Kumari
जाने  कैसे दौर से   गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
23/115.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/115.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
"विश्वास"
Dr. Kishan tandon kranti
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
Is ret bhari tufano me
Is ret bhari tufano me
Sakshi Tripathi
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
Ravi Prakash
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
Loading...