Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

मेरा दुश्मन मेरा मन

मेरा मन मुझे ही बांध लेता है,
जब भी आगे बढूं पैरों में जंजीर डाल देता है,
समझ नहीं आता किस हथियार से मारूँ इसे,
जब मेरा दुश्मन मेरे ही अंदर रहता है..।।

बड़ा ही कायर कर दिया है इसने मुझको,
नींबू की तरह निचोड़ दिया है इसने मुझको,
अब मैं खुद ही अपने फैसलों से डरने लगा हूँ,
इतना अजनबी कर दिया है इसने मुझको..।।

मेरा दिल अदन के बाग में लगता है,
हिम्मत मुझे कब्रिस्तान खींच लाती है,
मेरे अंदर पता नहीं कैसी रूह रहती है,
जो मुझे हर बार जन्नत से जुहन्नम खींच लाती है..।।

अब इसका इलाज भी मुश्किल है,
मर्ज जिस्म में नहीं रूह के अंदर है,
खुराक लायूँ भी तो कहाँ से लायूँ,
इसका हकीम नीचे नहीं ऊपर है..।।

कभी मेरे बहादुरी के भी किस्से हुआ करते थे,
गली मोहल्लों के मोड़ पर बच्चे सुना करते थे,
याद करता हूँ तो वह पुराना जन्म सा लगता है,
इस जन्म में तो टूटी कब्र कर दिया है इसने मुझको..।।

prAstya…..

Language: Hindi
3 Likes · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
बुद्ध को है नमन
बुद्ध को है नमन
Buddha Prakash
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कमाल करते हैं वो भी हमसे ये अनोखा रिश्ता जोड़ कर,
कमाल करते हैं वो भी हमसे ये अनोखा रिश्ता जोड़ कर,
Vishal babu (vishu)
अवसान
अवसान
Shyam Sundar Subramanian
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
संत कबीर
संत कबीर
Lekh Raj Chauhan
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
साहब का कुत्ता (हास्य-व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
कवि रमेशराज
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
अजान
अजान
Satish Srijan
इश्क की खुमार
इश्क की खुमार
Pratibha Pandey
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
कहीं चीखें मौहब्बत की सुनाई देंगी तुमको ।
Phool gufran
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
Seema gupta,Alwar
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
हैप्पी प्रॉमिस डे
हैप्पी प्रॉमिस डे
gurudeenverma198
प्रभु की शरण
प्रभु की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2573.पूर्णिका
2573.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...