Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2022 · 2 min read

// मेरा दिल चुराके ले गई …

// मेरा दिल चुराके ले गई………..

वो सफेद कपड़े वाली ,
वो नीली बैग वाली
मेरा दिल चुरा के ले गई ,
वो लड़की भोली-भाली…!!

रोज आकर चली जाती ,
रोज मिलकर बिछड़ जाती
काश , कहीं ऐसा हो जाता ,
वो आती और वक्त रुक जाता…!

मुस्कान उसकी लगती मुझको ,
तितली जैसी चंचलता वाली
रंगत है उसकी सांवली ,
भूरे-भूरे बालों वाली …!

वो सफेद कपड़े वाली
वो नीली बैग वाली .
मेरा दिल चुरा के ले गई ,
वो लड़की भोली-भाली…!!

———- ———- ———-

जबसे देखा तबसे चाहा ,
है मुझ सा दीवाना कहां
तुम ही तुम जेहन में मेरे ,
और ढूंढता सारा जहां…!

रातों को सपनों में आती ,
तन्हाई में यादें बन जाती
वो मृगनयनी सी नैनों वाली ,
दुआ जितनी भोली-भाली…!

वो सफेद कपड़े वाली ,
वो नीली बैग वाली .
मेरा दिल चुरा के ले गई ,
वो लड़की भोली-भाली…!!

———- ———- ——-

नजरें उठाए तो सूरज उगे ,
शाम ढले जब नजरें झुकाए
चेहरा उसका चांद लगे ,
मुझे देखकर वो शरमाए…!

बातें उसकी लगती मुझको ,
फूलों जैसी प्यारी-प्यारी …!
सितारें उसकी कान की बाली ,
हंसी उसकी बड़ी निराली

वो सफेद कपड़े वाली ,
वो नीली बैग वाली .
मेरा दिल चुरा के ले गई ,
वो लड़की भोली-भाली…!!

———– ———- ———-

पल पल उसकी यादों में ,
खोया खोया सा रहता हूं
सांझ सवेरे उसका ही नाम
मन ही मन में लेता हूं …!

मासूम अदा चाल मतवाली ,
चेहरे पर घुंघट जुल्फों की डाली
चुपके से आई जीवन में मेरे ,
बनकर मौसम बहारों वाली …!

वो सफेद कपड़े वाली ,
वो नीली बैग वाली .
मेरा दिल चुरा के ले गई ,
वो लड़की भोली-भाली…!!

———– ———- ———

मेरी जिंदगी में आकर ,
मेरी जिंदगी बदल दी
जो कभी न पा सका मैं ,
मुझे उसने वो खुशी दी …!

मैं तन्हा उदास था ,
मन की महफिल खाली-खाली
होने लगा सवेरा अब ,
गुजर रही रातें काली-काली …!!

वो सफेद कपड़े वाली ,
वो…नीली बैग वाली …!
मेरा दिल चुराके ले गई ,
वो लड़की भोली-भाली…!!

चिन्ता नेताम ” मन ”
डोंगरगांव (छत्तीसगढ़)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 554 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#गुस्ताख़ी_माफ़
#गुस्ताख़ी_माफ़
*Author प्रणय प्रभात*
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
*तपती धूप सता रही, माँ बच्चे के साथ (कुंडलिया)*
*तपती धूप सता रही, माँ बच्चे के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
भाग्य - कर्म
भाग्य - कर्म
Buddha Prakash
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
आलाप
आलाप
Punam Pande
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
Dr Archana Gupta
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल तड़प उठता है, जब भी तेरी याद आती है,😥
दिल तड़प उठता है, जब भी तेरी याद आती है,😥
SPK Sachin Lodhi
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
बेइंतहा सब्र बक्शा है
बेइंतहा सब्र बक्शा है
Dheerja Sharma
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Raju Gajbhiye
We all have our own unique paths,
We all have our own unique paths,
पूर्वार्थ
दादा की मूँछ
दादा की मूँछ
Dr Nisha nandini Bhartiya
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
3296.*पूर्णिका*
3296.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#Om
#Om
Ankita Patel
Loading...