Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2022 · 1 min read

मेरा दिल क्यो मचल रहा है

मेरा दिल क्यो मचल रहा है,
ये मौसम क्यो बदल रहा है।
इस मौसम ने किया है जादू,
अपने आप ये बहल रहा है।।

कुंवार में सावन बरस रहा है,
मन मिलने को तरस रहा है।
जल्द आ जाओ साजन मेरे,
दिल मेरा अब तड़प रहा है।।

सूर्य भी अब अस्त हो रहा है,
चंद्रमा भी अब निकल रहा है।
शरद पूर्णिमा की चांदनी रात में,
विरहणी का दिल मचल रहा है।।

फिजाओ का रंग बदल रहा है,
शरद ऋतु का स्वागत हो रहा है।
ऐसे में शोले क्यो नही भड़के,
जब सब कुछ यहां बदल रहा है।।

नन्ही नन्ही फुआरे पड़ रही है,
ठंडी ठंडी हवाएं चल रही है।
ऐसे इस सुहावने मौसम में,
ये भी किसी से कुछ कह रही है।।

कुंवार भी अब खत्म हों रहा है,
कार्तिक आने को मचल रहा है।
आ जाएगा त्यौहारों का मौसम,.
किसके लिए ये मचल रहा है।।

ऐसा मौसम सदैव चलता रहे,
जब तक ये सांसे चलती रहे।
समा लू दिल में ये चेहरा तेरा,
हम तुमसे सदा बाते करते रहे।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 305 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
श्रेष्ठ वही है...
श्रेष्ठ वही है...
Shubham Pandey (S P)
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
“ बधाई आ शुभकामना “
“ बधाई आ शुभकामना “
DrLakshman Jha Parimal
मेरे हिसाब से सरकार को
मेरे हिसाब से सरकार को
*Author प्रणय प्रभात*
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
पागल बना दिया
पागल बना दिया
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
💐प्रेम कौतुक-346💐
💐प्रेम कौतुक-346💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
दिव्य ज्ञान~
दिव्य ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
"श्रृंगार रस के दोहे"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
*ईख (बाल कविता)*
*ईख (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
3114.*पूर्णिका*
3114.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
एक महिला की उमर और उसकी प्रजनन दर उसके शारीरिक बनावट से साफ
Rj Anand Prajapati
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
हार हमने नहीं मानी है
हार हमने नहीं मानी है
संजय कुमार संजू
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay ' शून्य'
Loading...