Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

पेड़

पेड़ अब पेड़ नहीं रहा,
कभी वह पेड़ था, हरा-भरा था,
अनगिनत टहनियाँ, टहनियों पर पत्ते थे,
समयानुसार फल-फूल भी आते थे,
रंगबिरंगे चहचहाते पंछियों का बसेरा था,
आते-जाते राहगीरों का उसके तले डेरा था,
तब वह उपयोगी था, सबका प्यारा था,
वह सबका था, सब उसके थे,
समय बदला, रुत बदली, दुनिया बदल गयी,
पतझड़ में पत्ते झड़ गये, टहनियाँ सूनी हुईं,
फल-फूल यहाँ-वहाँ जाने कहाँ-कहाँ बिखर गये,
रह गया केवल एक तना ठूँठ, कोई छाँव पाता नहीं,
खत्म हुई उपयोगिता, कोई तले अब आता-जाता नहीं।

रचनाकार – कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक – ०२/०६/२०१९.

Language: Hindi
1 Like · 476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
*रिश्वत ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-129💐
💐अज्ञात के प्रति-129💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
हम साथ साथ चलेंगे
हम साथ साथ चलेंगे
Kavita Chouhan
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
मैंने खुद के अंदर कई बार झांका
ruby kumari
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
गुप्तरत्न
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में  जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
Swati
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
ख्याल
ख्याल
अखिलेश 'अखिल'
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फन कुचलने का हुनर भी सीखिए जनाब...!
फन कुचलने का हुनर भी सीखिए जनाब...!
Ranjeet kumar patre
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...