Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।

गज़ल

1212…..1122….1212…..22
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
दिया जो प्यार में था वो गुलाब है कि नहीं।

तेरे लबों से, जो पी थी, वही पिला साकी,
तेरी सुराही में, वो ही शराब है कि नहीं।

जमीं से दूर कहीं, चांद पर रहेंगे हम,
तेरे ज़हन में अभी भी, वो ख्वाब है कि नहीं।

कोई न देख ले चेहरे की तेरे रानाई,
वो मलमली सा पुराना हिजाब है कि नहीं।

मैं जिसको देख के कुर्बान हो गया प्रेमी,
तुम्हारे हुस्न का वो ही शबाब है कि नहीं।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्य कुमार प्रेमी
View all
You may also like:
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गीत- पिता संतान को ख़ुशियाँ...
गीत- पिता संतान को ख़ुशियाँ...
आर.एस. 'प्रीतम'
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
"नेमतें"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅समझ सको तो🙅
🙅समझ सको तो🙅
*प्रणय प्रभात*
लोगों को ये चाहे उजाला लगता है
लोगों को ये चाहे उजाला लगता है
Shweta Soni
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेमिका को उपालंभ
प्रेमिका को उपालंभ
Praveen Bhardwaj
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
तुम इतने आजाद हो गये हो
तुम इतने आजाद हो गये हो
नेताम आर सी
नज़रें!
नज़रें!
कविता झा ‘गीत’
चुन लेना राह से काँटे
चुन लेना राह से काँटे
Kavita Chouhan
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
कोई नाराज़गी है तो बयाँ कीजिये हुजूर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
shabina. Naaz
सनातन के नाम पर जो स्त्रियों पर अपने कुत्सित विचार रखते हैं
सनातन के नाम पर जो स्त्रियों पर अपने कुत्सित विचार रखते हैं
Sonam Puneet Dubey
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
रानी मर्दानी
रानी मर्दानी
Dr.Pratibha Prakash
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र
चुपचाप सा परीक्षा केंद्र"
Dr Meenu Poonia
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
शेखर सिंह
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
Loading...