Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

मेरा अन्तर्मन

जाने कैसा है अन्तर्मन ये
कुछ भी समझ न पाती मै
कभी ये एकदम कोरा लगता
दिखती कभी अबूझ आकृतियां
जैसे हूँ कोई निपट निरक्षर
कुछ भी पढ़ न पाती मैं |
रिक्त न दिखता कोई कोना
जिसमें जीवन गीत सजाऊं ।
जो भी पाया सीखा अब तक
उन सीखों से ताल मिलाऊं |
यत्र तत्र क्या-क्या लिख रखा
व्यर्थ भार सब ढ़ोता है।
सब व्यवहारों की स्मृति मे
इक पल हंसता फिर रोता है।
किन्तु चलेगा कब तक क्रम ये
इसे कहीं थमना होगा ।
आगे यदि बढ़ना है तो
ये व्यर्थ बोझ तजना होगा।
बुद्धि को अपमार्जक कर
मन का खारापन धुलना होगा।
भय कूल तोड़कर मन के सब
सानिध्य ईश चुनना होगा |

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
राम आएंगे
राम आएंगे
Neeraj Agarwal
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
World News
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
Sanjay ' शून्य'
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
हिंदीग़ज़ल में होता है ऐसा ! +रमेशराज
कवि रमेशराज
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
"खाली हाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
■ पहले आवेदन (याचना) करो। फिर जुगाड़ लगाओ और पाओ सम्मान छाप प
*Author प्रणय प्रभात*
आखों में नमी की कमी नहीं
आखों में नमी की कमी नहीं
goutam shaw
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
Loading...