Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 2 min read

मेनका की मी टू

मेनका की ‘मी टू’

“राजेश जी आप चांदनी चौक तरफ ही रहते हैं न ?” ऑफिस से निकलते ही डायरेक्टर साहब की स्टेनो मेनका ने पूछा.
“जी हाँ, वहीं मोड़ पर पहली गली में तीसरा मकान है हमारा.” ऑफिस में हाल ही नियुक्त क्लर्क राजेश ने बताया.
“हाँ, मुझे पता है. मैंने आपको उधर आते-जाते कई बार देखा है. मेरा घर भी चांदनी चौक के पास ही है.” मेनका ने बताया.
“अच्छा-अच्छा, फिर तो हम दोनों पड़ोसी निकले.” राजेश के मुँह से यूं ही निकल गया. आसपास खड़े सहकर्मी मुस्कुराने लगे.
“क्या आज आप मुझे अपनी बाइक पर लिफ्ट देंगे ? क्या है कि आज मेरी तबीयत कुछ ठीक नहीं है.” मेनका ने आग्रह किया.
“हाँ-हाँ, क्यों नहीं. आइये बैठिए.” राजेश ने कहा और दोनों चल पड़े.
अब तो दोनों के बीच अक्सर इस प्रकार की हल्की-फुल्की बातचीत होती रहती. प्रायः दोनों साथ ही आते-जाते. मेनका तलाकशुदा थी, जबकि राजेश एक अविवाहित, खूबसूरत नौजवान था. दोनों को एक दूसरे का साथ खूब रास आ रहा था. दोनों किसी भी तरह से एक दूसरे को पाना चाहते थे. मौका भी उन्हें जल्दी ही मिल गया.
एक दिन मेनका ने उसे चाय के बहाने घर बुला लिया. उसी दिन दोनों दिन दुनिया से बेखबर एक दूसरे में खो गए. फिर तो अक्सर ऐसे ही मिलने लगे. ऐसे अन्तरंग के पल मेनका के घर में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरे में रिकॉर्ड होते रहे.
हफ्ते भर बाद मेनका ने उससे विवाह का प्रस्ताव रखा. राजेश ने साफ़ मना कर दिया. वह तो बस मजा लेने और टाइम पास के लिए मेनका से सम्बन्ध बना रहा था.
मेनका अड़ गई, “शादी तो तुम्हें मुझसे करनी ही पड़ेगी मिस्टर राजेश. मैं कोई बाजारू रंडी नहीं, कि तुम मुझसे खेलकर पतली गली से निकल लो. यदि तुमने मुझसे शादी नहीं कि तो मैं शोर मचाकर अभी लोगों को इकठ्ठा कर लूंगी. फिर वे तुम्हारा क्या हाल करेंगे, बताने की जरूरत नहीं. ये सी.सी.टी.व्ही. कैमरा देख रहे हो न; इसमें सब कुछ रिकॉर्ड है. ‘मी टू’ केम्पेन का नाम तो सूना ही होगा. नौकरी तो जाएगी ही, तुम कहीं भी मुँह दिखाने के काबिल नहीं रहोगे.”
बदनामी और नौकरी जाने के डर से उसने शादी के लिए ‘हाँ’ कर दी.
अगले ही दिन सुबह राजेश की लाश मिली. उसने अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
The_dk_poetry
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
पिता
पिता
Buddha Prakash
.
.
शेखर सिंह
लघुकथा - एक रुपया
लघुकथा - एक रुपया
अशोक कुमार ढोरिया
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
10-भुलाकर जात-मज़हब आओ हम इंसान बन जाएँ
Ajay Kumar Vimal
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
मेरे कलाधर
मेरे कलाधर
Dr.Pratibha Prakash
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
ढोना पड़ता देह को, बूढ़ा तन लाचार (कुंडलिया)
ढोना पड़ता देह को, बूढ़ा तन लाचार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बच्चे
बच्चे
Shivkumar Bilagrami
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
दस्ताने
दस्ताने
Seema gupta,Alwar
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...